Tue. Jul 23rd, 2024

अतिरिक्त उपायुक्त के निर्देश – लंबे अरसे से डंप कचरे का करें शीघ्र निपटारा, कचरा निष्पादन की रोजाना की मात्रा व रफ्तार बढ़ाएं
मंडी, 17 नवंबर : अतिरिक्त उपायुक्त जतिन लाल ने नगर निगम मंडी और नगर परिषद सुन्दरनगर के अधिकारियों को कचरा प्रबंधन प्लांट पर लंबे अरसे से डंप कचरे का शीघ्र निपटारा सुनिश्चित करवाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने इसके लिए प्लांट पर कचरा निष्पादन की रोजाना की मात्रा व रफ्तार बढ़ाने को कहा, ताकि पुराने करने का जल्द निष्पादन हो सके।
अतिरिक्त उपायुक्त ने यह निर्देश राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण के निर्देशों की अनुपालना में गठित जिला स्तरीय समिति की मंडी में आयोजित बैठक की अध्यक्षता करतेे हुए दिए।
उन्होंने पुलिस और क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी व सम्बन्धित विभागों को यातायात नियमों की अवहेलना करने वालों के खिलाफ सख्ती से पेश आने को कहा। उन्होंने कहा कि ओवर लोडिंग व अत्यधिक धूआं छोड़ने वाले वाहनों, प्रैशर हॉर्न इस्तेमाल करने वालों, ट्रक में बिना ढके तूड़ी लाने और सड़क किनारे रखी निर्माण सामग्री के ढेर लगाने वालों के ज्यादा से ज्यादा चालान काटे जाएं, ताकि इस प्रकार की लापरवाही की वृति को रोक कर दुर्घटनाओं को टाला जा सके।
अतिरिक्त उपायुक्त ने वायु प्रदूषण की रोकथाम के लिए जागरुकता शिविर लगाने के भी निर्देश दिए। उन्होेेंने कहा कि ई-रिक्शा के लिए पहले आओ, पहले पाओ की तर्ज पर 100 रिक्शों का पंजीकरण किया जा रहा है। नगर परिषद सुन्दरनगर को प्रदूषण नियन्त्रण बोर्ड के माध्यम से सड़क किनारे व अन्य उपयुक्त जगहों पर 1000 पौधे लगाने के लिए दिए गए हैं तथा 1000 और पौधे दिए जा रहे हैं। वन विभाग भी शरद ऋतु में लक्ष्य के बढ़कर 2 हैक्टेयर में 2200 अतिरिक्त पौधे लगाएगा।
उन्होंने सभी सम्बन्धित विभागों से मासिक रिपोर्ट समय पर प्रस्तुत करने को कहा ताकि सभी मामलों पर उचित समीक्षा की जा सके।
ये रहे उपस्थित
इस अवसर पर राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी अतुल परमार, राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की क्षेत्रीय लैब सुंदरनगर के वरिष्ठ वैज्ञानिक अधिकारी प्रकाश शर्मा, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. दिनेश ठाकुर, परियोजना अधिकारी जिला ग्रामीण विकास अभिकरण, नवीन शर्मा, जिला पंचायत अधिकारी हरि सिंह, क्षेत्रीय प्रबन्धक एचआरटीसी गोपाल शर्मा, वन मण्डलाधिकारी मुंशी राम, अतिरिक्त निदेशक पशुपालन डॉ. रणजीत, शिक्षा उपनिदेशक अमर नाथ, अधिशाषी अभियन्ता सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग विवेक हाजरी सहित विभिन्न विभागों के सम्बन्धित अधिकारी मौजूद थे।