Tue. May 28th, 2024

शिमला, 29जनवरी
उद्योग एवं लोगों की मांग के अनुरुप रोजगार प्रशिक्षण प्रदान करवाना आवश्यक है ताकि बेरोजगार व्यक्तियों को रोजगार उपलब्ध हो सके। उपायुक्त शिमला आदित्य नेगी ने जिला स्तरीय प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना 3.0 की प्रथम बैठक की अध्यक्षता करते हुए यह बात कही।
उन्होनें बताया कि जुलाई माह तक चलने वाला प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना 3.0 का मुख्य उद्येश्य केन्द्र द्वारा प्रायोजित योजना को जिला शिमला में सूचारु रुप से क्रियान्वित कर विभिन्न सेक्टर के माध्यम से अधिक से अधिक लोगों को प्रशिक्षण प्रदान करवाना है। उन्होने बताया कि उद्योगों में रिक्त पदों का मूल्यांकन किया जाना आवश्यक है ताकि उस हिसाब से लोगों को प्रशिक्षण प्रदान किया जा सके।
उन्होनें बताया कि जिला कौशल समिति का इस योजना में महत्वपूर्ण योगदान शामिल है जिसमें उम्मीदवारों का चयन, उनकी कांउसलिंग, प्रशिक्षण बैचों का गठन, प्रशिक्षण गुणवता की निगरानी व पर्यवेक्षण करना तथा प्रशिक्षण के उपरांत रोजगार मेले का आयोजन करना शामिल है।
उपायुक्त ने बताया कि जिला शिमला में 3 जाॅब सेक्टर के माध्यम से प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा, जिसमें खाद्य एवं पेय सेवा, यात्रा सलाहाकार, डाटा एण्ट्री आॅपरेटर, हेयर स्टाइलिस्ट, सौन्दर्य चिकित्सक, योग ट्रैनर आदि जाॅब रोल शामिल किए गए है। इसके साथ पहले से काम करने वाले व्यक्तियों को प्रशिक्षण प्रदान कर मान्यता प्रदान की जाएगी, जिसमें सक्योरिटी गाॅर्ड, रिटेल एसोसिएटस, मिस्त्री, प्लम्बिंग, इलैक्ट्रिशियन आदि जाॅब रोल को शामिल किया गया है।
इस अवसर पर परियोजना अधिकारी डीआरडीए संजय भगवती, जिला कल्याण अधिकारी हाकम सिंह, जीएम डीआईसी योगेश गुप्ता, जिला युवा अधिकारी मनीषा शर्मा, जिला समन्वयक एचपीकेवीएन राधिका शर्मा, रोजगार अधिकारी विजय गुप्ता एवं अन्य अधिकारीगण उपस्थित थे।