Fri. Jun 14th, 2024

केंद्रीय सरकारी कार्यालयों, उपक्रमों एवं बैंकों में राजभाषा हिन्‍दी के प्रयोग को बढ़ाने के उद्देश्‍य से भारत सरकार द्वारा एसजेवीएन लिमिटेड के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक की अध्‍यक्षता में गठित नगर राजभाषा कार्यान्‍वयन समिति, शिमला (कार्यालय-2) की वीडियो कॉन्‍फ्रेसिंग के माध्‍यम से आयोजित छमाही बैठक का आयोजन एसजेवीएन लिमिटेड, कारपोरेट मुख्‍यालय, शक्ति सदन, शनान, शिमला में किया गया। बैठक की अध्‍यक्षता एसजेवीएन के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक- सह- अध्‍यक्ष, नराकास, शिमला (कार्यालय-2), श्री नंद लाल शर्मा ने की। श्री शर्मा ने अपने अध्‍यक्षीय भाषण में सभी सदस्‍य कार्यालयों के हिंदी में किए जा रहे कार्यों की सराहना की और एसजेवीएन द्वारा इस कार्य को आगे बढ़ाने के लिए नराकास राजभाषा शील्‍ड आरंभ करने और प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय पुरस्‍कार सहित नकद पुरस्‍कारों से सम्‍मानित किए जाने का निर्देश दियाI उन्‍होंने कहा कि अन्‍य कार्यालय भी इसी प्रकार वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्‍यम से प्रतियोगिताओं/कार्यशालाओं का आयोजन कर सकते हैI सोशल डिस्‍टेंसिंग का ध्‍यान रखते हुए कार्यालय में भी प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जा सकता हैI

इस अवसर पर निगम की निदेशक (कार्मिक), श्रीमती गीता कपूर सहित, महाप्रबंधक (मा.सं./राजभाषा), श्री पवन वर्मा, उप महाप्रबंधक (राजभाषा) एवं सदस्‍य-सचिव, नराकास-2, शिमला श्रीमती मृदुला श्रीवास्‍तव, उप महाप्रबंधक (राजभाषा), श्री नरेन्‍द्र कुमार मनकोटिया तथा राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय, भारत सरकार की ओर से सहायक निदेशक (कार्यान्‍वयन), श्री नरेन्‍द्र सिंह मेहरा भी उपस्थित थे।

बैठक में उपस्थित एसजेवीएन की निदेशक (कार्मिक), श्रीमती गीता कपूर ने कहा कि सभी सदस्‍य कार्यालय अपने-अपने कार्यालय में सराहनीय कार्य कर रहे हैं और आगे भी इसी गति को बनाए रखते हुए अधिकतम कामकाज हिंदी में संपन्‍न करने का हरसंभव प्रयास करेंI हम अधिकतम नवीनतम प्रौद्योगिकी का प्रयोग करते हुए कार्य की गति‍ को बढ़ा सकते हैं। आज की बैठक इसका सफल उदाहरण है।

बैठक में उपस्थित महाप्रबंधक (मा.सं./राजभाषा), श्री पवन वर्मा ने समिति के सदस्‍य कार्यालयाध्‍यक्षों का स्‍वागत करते हुए इस अवसर पर कहा कि गृह मंत्रालय,भारत सरकार के तत्‍त्‍वावधान में आयोजित नराकास-कार्यालय-2 की इस वीडियो बैठक में आप सभी की उपस्थिति निश्चित रूप से स्‍वागत योग्‍य है I सदस्‍य कार्यालयों में अधिकतम पत्राचार हिंदी में किया जा रहा है, राजभाषा कार्यान्‍वयन के क्षेत्र में सदस्‍य कार्यालयों द्वारा सराहनीय प्रयास किए गए हैंI तथापि, जहां कमी है, वहां अधिक प्रयास किए जाने की आवश्‍यकता है I

बैठक में उपस्थित सदस्‍य कार्यालयों के अध्‍यक्षों और अधिकारियों का परिचय करवाते हुए श्रीमती मृदुला श्रीवास्‍तव, उप महाप्रबंधक(राजभाषा)-सह सदस्‍य-सचिव, ने नराकास सदस्‍य कार्यालयों द्वारा किए गए कार्यों पर प्रकाश डाला तथा गत बैठक की अनुवर्ती कार्यवाई और वर्ष के दौरान नराकास (कार्यालय-2) के सदस्‍य कार्यालयों द्वारा आयोजित की गई प्रतियोगिताओं/कार्यक्रमों की जानकारी दी I

समिति की बैठक में शिमला स्थित केंद्रीय सरकारी कार्यालयों, उपक्रमों तथा बैंकों इत्‍यादि के 26 सदस्‍य कार्यालयों के 52 अधिकारियों ने भाग लिया।

इस वीडियो बैठक में दिल्‍ली से भाग ले रहे राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय, भारत सरकार के उप निदेशक(कार्यान्‍वयन), श्री नरेन्‍द्र सिंह मेहरा ने कहा कि शिमला स्थित नराकास (कार्यालय-2) का कार्यभार एसजेवीएन के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक की अध्‍यक्षता में सराहनीय कार्य कर रही है तथा इसकी बैठकें नियमित आधार पर आयोजित की जाती है। इन बैठकों में लिए गए निर्णयों पर सभी कार्यालयों द्वारा इसका कार्यान्‍वयन सुनिश्चित किया जा रहा हैI इस नराकास समिति का कार्य बहुत प्रशंसनीय है