Sat. May 25th, 2024

केंद्रीय सरकारी कार्यालयों, उपक्रमों एवं बैंकों में राजभाषा हिन्‍दी के प्रयोग को बढ़ाने के उद्देश्‍य से भारत सरकार द्वारा एसजेवीएन लिमिटेड के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक की अध्‍यक्षता में गठित नगर राजभाषा कार्यान्‍वयन समिति, शिमला (कार्यालय-2) की छमाही बैठक का आयोजन दिनांक 16.12;2020 को एसजेवीएन लिमिटेड, कारपोरेट मुख्‍यालय, शक्ति सदन, शनान, शिमला में किया गया। बैठक की अध्‍यक्षता एसजेवीएन के निदेशक (कार्मिक) श्रीमती गीता कपूर ने की । इस अवसर पर निगम के मुख्‍य महाप्रबंधक (मानव संसाधन), श्री डी.पी. कौशल सहित सहित महाप्रबंधक (मा.सं./राजभाषा), श्री पवन वर्मा तथा उप महाप्रबंधक (राजभाषा) एवं सदस्‍य-सचिव, नराकास-2, शिमला श्रीमती मृदुला श्रीवास्‍तव, उप महाप्रबंधक (राजभाषा), श्री नरेन्‍द्र कुमार मनकोटिया तथा राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय, भारत सरकार की ओर से सहायक निदेशक (कार्यान्‍वयन), श्री नरेन्‍द्र सिंह मेहरा भी उपस्थित थे।

वीडियो बैठक में उपस्थित मुख्‍य महाप्रबंधक (मा. सं.), श्री डी.पी.कौशल ने समिति के सदस्‍य कार्यालयाध्‍यक्षों का स्‍वागत करते हुए कहा कि सदस्‍य कार्यालयों में अधिकतम पत्राचार हिंदी में किया जा रहा है, राजभाषा कार्यान्‍वयन के क्षेत्र में सदस्‍य कार्यालयों द्वारा सराहनीय प्रयास किए गए हैं I तथापि, जहां कमी है, वहां अधिक प्रयास किए जाने की आवश्‍यकता है I

बैठक में उपस्थित सदस्‍य कार्यालयों के अध्‍यक्षों और अधिकारियों का परिचय करवाते हुए श्री पवन वर्मा, महाप्रबंधक (मानव संसाधन/राजभाषा) ने नराकास सदस्‍य कार्यालयों द्वारा किए गए कार्यों पर प्रकाश डाला तथा गत बैठक की अनुवर्ती कार्यवाई /कार्यक्रमों की संक्षिप्‍त जानकारी दी I

श्रीमती मृदुला श्रीवास्‍तव, उप महाप्रबंधक(राजभाषा)-सह सदस्‍य-सचिव, ने बैठक की कार्यवाही को आगे बढ़ाते हुए सभी सदस्‍य कार्यालयों से प्राप्‍त छमाही रिपोर्टो का तुलनात्‍मक ब्‍यौरा प्रस्‍तुत करते हुए बैठक की कार्यवाही को गति प्रदान की ।

समिति की बैठक में शिमला स्थित केंद्रीय सरकारी कार्यालयों, उपक्रमों तथा बैंकों से 42 वरिष्‍ठ अधिकारियों ने भाग लिया।

बैठक में केंद्रीय सरकारी कार्यालयों में हिंदी के प्रयोग की समीक्षा की गई तथा भारत सरकार द्वारा निर्धारित लक्ष्‍यों को प्राप्‍त करने की दिशा में विचार-विमर्श किया गया। I समिति द्वारा विभिन्‍न हिंदी प्रतियोगिताओं का आयोजन किए जाने पर भी सहमति बनी ।

बैठक में उपस्थित सदस्‍यों का स्‍वागत करते हुए राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय, भारत सरकार के उप निदेशक(कार्यान्‍वयन), श्री नरेन्‍द्र सिंह मेहरा ने कहा कि शिमला स्थित नराकास (कार्यालय-2) का कार्यभार एसजेवीएन के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक की अध्‍यक्षता में सराहनीय कार्य कर रही है तथा इसकी बैठकों का नियमित आधार पर आयोजित किया जाना, बैठकों में नराकास के कार्यालय प्रमुखों का भाग लेना तथा राजभाषा की प्रगति की सतत समीक्षा एवं बैठकों में लिए गए निर्णयों पर सभी कार्यालयों द्वारा कार्यान्‍वयन सुनिश्चित किया जाना यह बताता है कि यह नराकास राजभाषा संबंधी गतिविधियों पर विशेष ध्‍यान दे रही है I इस नराकास समिति का कार्य बहुत प्रशंसनीय है ।

बैठक की अध्‍यक्षता कर रही एसजेवीएन की निदेशक (कार्मिक), श्रीमती गीता कपूर ने अपने अध्‍यक्षीय संबोधन में कहा कि सभी सदस्‍य कार्यालय अपने-अपने कार्यालय में सराहनीय कार्य कर रहे हैं और आगे भी इसी गति को बनाए रखते हुए अधिकतम कामकाज हिंदी में संपन्‍न करने का हरसंभव प्रयास करें I हमें अधिकतम नवीनतम प्रौद्योगिकी का प्रयोग करते हुए कार्य की गति‍ को बढ़ावा देना चाहिए । उन्‍होंने इस वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के माध्‍यम से इस बैठक के आयोजन के लिए अध्‍यक्ष कार्यालय एसजेवीएन लि. को बधाई दी और अन्‍य सदस्‍यों कार्यालयों से आह्वान किया कि वे भी इसी प्रकार अपने-अपने कार्यालयों में ई-तकनीक का प्रयोग करते हुए वेबनार और कार्यशालाओं का आयोजन करें ।

बैठक का धन्‍यवाद ज्ञापन श्री पवन वर्मा, महाप्रबंधक (मानव संसाधन/राजभाषा) के इन शब्‍दों के साथ हुआ कि भविष्‍य में सभी सदस्‍य कार्यालयों का सहयोग इस नराकास को इसी प्रकार सतत रूप से मिलता रहेगा ताकि यह नराकास देश के अन्‍य नराकासों की तरह हिन्‍दी के प्रचार-प्रसार में अपनी सार्थक भूमिका निभा सकें I श्री वर्मा ने निदेशक(कार्मिक) , मुख्‍य महाप्रबंधक(मानव संसाधन)तथा सहायक निदेशक(कार्यान्‍वयन) का विशेष धन्‍यवाद भी ज्ञापित किया ।