Mon. Mar 4th, 2024

सुखविंदर सुक्खू ने किया हमेशा पार्टी को तोड़ने का…बलदेव ठाकुर
-जो पार्टी को तोड़ने का काम कर रहे हैं उन्हें किया किया जाना चाहिए निष्काषित
-राठौर ने पूरे प्रदेश में कांग्रेस को किया एक जुट
धनेश गौतम
कुल्लू। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू ने हमेशा कांग्रेस को
तोड़ने का काम किया है और हमेशा वरिष्ठ नेताओं को लड़ाने का प्रयास किया है। जब
वे एनएसयूआई में थे तो पंडित सुखराम व वीरभद्र सिंह में दरार डाली,जब यूथ
कांग्रेस में थे तो सभी वरिष्ठ नेताओं को लड़ाने का काम किया और जब अध्यक्ष थे
तो तत्कालीन मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के खिलाफ काम किया। यह बात यहां
कांग्रेस सेवादल के पूर्व प्रदेश संगठक बलदेव ठाकुर ने प्रेस वार्ता को
संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि सक्खू को कांग्रेस के संविधान का मालूम
ही नहीं है और न ही उन्होंने कांग्रेस का संविधान पढ़ा है तभी तो वे इस बार भी
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप राठौर के खिलाफ षड्यंत्र रच रहे हैं और
अनाप-शनाप बयानबाजी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सुक्खू ने जो एक स्टेटमेंट दी
है कि कांग्रेस अध्यक्ष किसी को नोटिस नहीं दे सकते हैं उससे पता चलता है कि
उन्हें पार्टी संविधान का ज्ञान ही नहीं। उन्होंने कहा कि सुक्खू क्या भूल गए
कि उन्होंने अपने समय के दौरान 180 कांग्रेसियों को निष्कासित किया था। जबकि
इसमें कई कांग्रेसी बरिष्ट नेता,पूर्व मंत्री व विधायक भी शामिल थे। उन्होंने
कहा कि वर्तमान अध्यक्ष कुलदीप राठौर पार्टी हित में काम कर रहे हैं और पार्टी
को एकजुट किया है। यही कारण है कि उन लोगों को पार्टी की एकजुटता रास नहीं आ
रही है और अब कुलदीप राठौर के खिलाफ भी साजिस रची जा रही है। उन्होंने कहा कि
राठौर के नेतृत्व में पार्टी मजबूत हुई है और उनके खिलाफ जो साजिस रच रहे हैं
उनको वेनकाब किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस विषय को लेकर सोनिया गांधी से
मिलने एक प्रतिनिधि मंडल जाएगा और इन साजिस कर्ताओं की सारी पोल खोल दी जाएगी।
उन्होंने कहा कि ऐसे साजिशकर्ताओं को पार्टी से शीघ्र निष्कासित किया जाना
चाहिए। उन्होंने सभी कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं से अपील की है कि पार्टी की
एकजुटता के लिए काम करें। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह व विपक्ष
के नेता मुकेश अग्निहोत्री पार्टी हित में काम कर रहे हैं और सभी कांग्रेस
नेताओं को उनके पद चिन्हों पर चलना चाहिए। लिहाजा कांग्रेस पार्टी के अंदर आया
तूफान थमने का नाम नहीं ले रहा है और गुटबाजी हावी होती जा रही