Sun. Jul 14th, 2024

वन, परिवहन, युवा सेवाएं एवं खेल मंत्री ने कहा कि कोविड-19 के संकट के दौर में विकास और निर्माण कार्यों में जो विराम लग गया था, उसकी पूर्ति के लिए सभी विभागोें को रूटीन से हटकर अतिरिक्त काम करना होगा। वह सोमवार को देवसदन में जिला में चल रहे विकास कार्यों और निर्माणाधीन परियोजनाओं की प्रगति की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि लाॅक-डाउन के दौरान गतिविधियां बंद हो गई थी, जिन्हें अब दोगुणी गति के साथ आगे बढ़ाना होगा। उन्होंने कहा कि निर्माण कार्यों से जुड़े लाईन विभागों के पास पिछले कई सालों से हजारों करोड़ की राशि पड़ी है जो खर्च नहीं हो पाई है। अधिकारियों को सरकार की विकास की मन्शा को मूर्तरूप देने के लिए अतिरिक्त प्रयास करने होंगे। नई सोच के साथ आगे बढ़ने की आवश्यकता है। अपने लक्ष्यों को स्वयं निर्धारित कर उन्हें पूरा करने की दिशा में काम करें। उन्होंने अभियंताओं से कहा कि प्राक्कलन तैयार करने व धनराशि स्वीकृत करवाने से पूर्व निर्माण कार्य की व्यवहारिकता का पता लगाएं।
जल शक्ति विभाग के कार्यों की समीक्षा करते हुए वन मंत्री को अवगत करवाया गया कि जल जीवन मिशन के तहत कुल 65 योजनाएं स्वीकृत की गई हैं। प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत जिला के लिए पहली शैल्फ 4875.67 करोड़ की है जिसमें 13 योजनाओं को स्वीकृति मिली है जबकि 16 योजनाओं की दूसरी शैल्फ 9065.02 लाख रुपये की स्वीकृति हुई हैं। वन विभाग की समीक्षा करते हुए जानकारी दी गई कि विद्यार्थी वन मित्र योजना के तहत स्कूलों में 11.30 हैक्टेयर भूमि पर पौधरोपण किया जाएगा। वन समृद्धि जन समृद्धि योजना के तहत पार्वती वन मण्डल में साईट का चयन किया गया है। एक बूटा बेटी के नाम योजना के तहत 2250 किट स्वीकृत की गई हैं।
मंत्री को अवगत करवाया गया कि लोक निर्माण विभाग के पास लगभग 15.87 करोड़ की राशि अभी तक खर्च नहीं की गई है। इस पर मंत्री ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि निर्माण कार्यों को गति देने की जरूरत है। उन्होंने अभियंताओं से कहा कि सड़कों और पुलों के निर्माण को प्राथमिकता प्रदान दी जानी चाहिए।
एक करोड़ 25 लाख पौधरोपण का है लक्ष्य
वन मंत्री ने कहा कि पिछले साल प्रदेश में 50 लाख पौधों का रोपण किया गया था। इस साल 12 हैक्टेयर भूमि को कवर करते हुए सवा करोड़ पौधे रोपित किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि पौधरोपण अधिकांश कार्य मनरेगा के तहत किया जाएगा। स्कूली बच्चे व आम लोग भी पौधरोपण करेंगे। जीवंतता पर विशेष बल दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश को हरा-भरा और खूबसूरत बनाना सभी का दायित्व है और पौधरोपण जैस पुण्य कार्य में सभी लोग आहूति देंगे।
गोविंद ठाकुर ने इण्डोर स्टेडियम के निर्माण पर चर्चा करते हुए कहा कि ढालपुर मैदानों का वैभव सभी को बनाए रखना है। मैदानों में किसी प्रकार का निर्माण नहीं किया जाना चाहिए।
कोरोना के खतरे से निपटने के लिए किए गए उपायों पर चर्चा करते हुए बैठक में मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने अवगत करवाया कि अभी तक कुल 2208 सैंपल लिए गए हैं, जिनमें 2203 नेगेटिव आएं हैं जबकि पांच पाॅजिटिव आएं हैं। केवल दो एक्टिव मामले हैं। गत 10 अप्रैल के बाद जिला में 8948 लोग बाहर से आएं हैं जिनमें से 8021 ने होम क्वारंटीन पूरा कर लिया है और 927 अभी क्वांरटीन पर हैं। मंत्री ने कहा कि जिला में कोरोना को लेकर आम जनमानस जागरूक हैं और यही कारण है यहां कोरोना पाॅजिटिव के बहुत कम मामले हैं। उन्होंने लोगों से एहतियात बरतने की अपील की है और आशा जताई कि जिला एक बार फिर से कोरोना मुक्त होगा।
बैठक में अवगत करवाया गया कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के राशन कार्ड धारकों को लगातार तीन महीनों तक पांच-पांच किलो चावल तथा एक किलो चना मुफ्त वितरित किया गया। 2802 क्ंिवटल चाचल तथा 13896 किलोग्राम काला चना वितरित किया गया। आत्मनिर्भर भारत योजना के तहत 5311 चिन्हित प्रवासी मजदूरों को 531 क्ंिवटल चावल व 30 क्विंटल चना बांटा गया। प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत जिला में 13103 महिलाओं को मु््फ्त गैस कनैक्शन दिए गए हैं। कोरोना संकट में राहत प्रदान करने के लिए इन महिलाओं को तीन-तीन सिलेंडर मुफ्त दिए जा रहे हैं। अभी तक 24043 सिलेंडर दिए जा चुके हैं। हिमाचल गृहिणी सुविधा योजना के तहत भी जिला में 14810 महिलाओं को मुफ्त गैस कनैक्शन दिए गए हैं। कोरोना संकट के मद्देनजर इन महिलाओं को भी तीन-तीन सिलंेडर मुफ्त दिए जा रहे हैं। अभी तक 11184 सिलेंडर प्रदान किए जा चुके हैं।
मनरेगा के अंतर्गत जिला में 92382 जाॅब कार्डधारक हैं, जिनमें से 24367 ने रोजगार की मांग की है और सभी को रोजगार प्रदान किया गया। जून माह तक 2.60 लाख श्रम दिवस अर्जित किए गए हैं। मंत्री ने कहा कि मनरेगा के तहत विभागों को कन्वर्जेन्स के माध्यम से अनेकों प्रकार के कार्य किए जा सकते हैं। विशेषकर वनीकरण, भूमि सुधार, ग्रामीण सड़कें व रास्ते, टैंक इत्यादि का निर्माण करवाया जाना चाहिए।
े विधायक सुरेन्द्र शौरी ने बंजार क्षेत्र में चल रहे विकास कार्यों पर संबंधित विभागों से विस्तारपूर्वक चर्चा की और बहुमूल्य सुझाव दिए। इससे पूर्व उपायुक्त डाॅ. ऋचा वर्मा ने स्वागत किया और जिला में चल रहे विकास कार्यों के साथ-साथ कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए किए जा रहे प्रयासों की जानकारी दी।
अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी एस.के. पराशर ने बैठक की कार्यवाही का संचालन किया। जिला लोक सम्पर्क अधिकारी प्रेम ठाकुर ने धन्यवाद किया।
समस्त एसडीएम, अरण्यपाल अजीत ठाकुर, अधीक्षण अभियंता लोक निर्माण अनिल संगराई, जल शक्ति के अधीक्षण अभियंता देवेश भारद्वाज सहित सभी विभागों के अधिकारी बैठक में मौजूद रहे।