Mon. Feb 26th, 2024

जन सम्पर्क विभाग के अधिकारियों के लिए तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम आरम्भ

जन सम्पर्क विभाग के अधिकारियों के लिए तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम आरम्भ

सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग के अधिकारियों के लिए आज यहां तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम की शुरुआत हुई।

इस अवसर पर निदेशक, सूचना एवं जन सम्पर्क हरबंस सिंह ब्रसकोन ने मुख्य वक्ताओं का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि उनके अनुभव विभागीय अधिकारियों के लिए उपयोगी होंगे और उनकी कार्यप्रणाली में सुधार होगा।

प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्देश्य वर्तमान संदर्भ में जन सम्पर्क में नए प्रचलन और चुनौतियों, लोक एवं पारम्परिक मीडिया का उपयोग और प्रभावी प्रचार के लिए नवीन तकनीक के उपयोग पर केन्द्रित था।

तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम के पहले दिन सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग के पूर्व निदेशक बी.डी. शर्मा ने सरकारी कार्यक्रमों और नीतियों के प्रभावी प्रचार के लिए नए मीडिया और प्रौद्योगिकी के उपयोग पर जोर दिया।

उन्होंने कहा कि जन कल्याण के लिए चलाए जा रहे सरकारी कार्यक्रमों, नीतियों और योजनाओं के प्रभावी प्रचार-प्रसार के लिए जन सम्पर्क कर्मियों को मीडिया के साथ सौहार्दपूर्ण सम्बन्ध विकसित करने के प्रयास करने चाहिए। उन्होंने कहा कि लक्षित समूहों को ध्यान में रखते हुए मीडिया के साधनों का तर्कसंगत उपयोग किया जाना चाहिए।

श्री शर्मा ने सूचना के समयबद्ध प्रचार-प्रसार की आवश्यकता पर बल दिया और कहा कि विभिन्न प्रकार के मीडिया जैसे मुख्यधारा के मीडिया और सोशल मीडिया को ध्यान में रखते हुए विभाग के पास सूचना का एक डेटा बैंक उपलब्ध रहना चाहिए क्योंकि विभिन्न मीडिया के लिए सूचना की आवश्यकता अलग-अलग होती है और समयसीमा भी अलग-अलग होती है।

इस अवसर पर विभाग के पूर्व उप-निदेशक मेला राम शर्मा ने लोक नाट्य और फील्ड पब्लिसिटी के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि लोक नाट्य सूचना सम्प्रेषण का सबसे प्राचीन माध्यम है, जिसकी वर्तमान में भी बहुत प्रासंगिकता है।

इस अवसर पर विभाग के सम्पादक डाॅ. राजेश शर्मा ने प्रेस विज्ञप्ति के लिए सूचना संकलन और समय प्रबन्धन पर अपने विचार साझा किए।

.0.

ReplyReply allForward