Sat. Jun 22nd, 2024

मोहाली 12 दिसंबर

आर्यन्स कालेज ऑफ़ लॉ, राजपुरा, नियर चंडीगढ़ ने मानवाधिकार दिवस मनाने के लिए, ‘स्टैंड अप फार ह्यूमन राइट्स’ पर ए· आनलाईन वेबिनार का आयोजन किया। न्यायमूर्ति इकबाल अहमद अंसारी, पूर्व मुखय न्यायाधीश, उच्च न्यायालय, पटना, पंजाब राज्य मानवाधिकार आयोग के मुखय वक्ता थे। डॉ अंशु कटारिया, अध्यक्ष, आर्यन्स ग्रुप ने वेबिनार की अध्यक्षता की।
न्यायमूर्ति अंसारी ने छात्रों के साथ बातचीत करते हुए इस दिन 1948 के यूनिवर्सल डिक्लेरेशन ऑफ ह्यूमन राइट्स (यूडीएचआर) के सभी 30 लेखों को समझाया। उन्होंने यूडीएचआर के इतिहास और सदस्य राज्यों की यात्रा और अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार कानून के तहत मानवाधिकार की सुरक्षा के बारे में भी बताया। उन्होंने कहा कि इस वर्ष इस दिन का विषय कोविड-19 महामारी से संबंधित है और यह मानवाधिकार को सुनिश्चित करने के लिए बेहतर निर्माण ·रने की आवश्य·ता पर ध्यान केद्रित करता है।
उन्होंने आगे कहा कि इस विश्व संकट मे गरीबी, असमानताओं, संरचनात्मक और सघन भेदभाव ने मानवाधिकारों के संरक्षण पर गहरा प्रभाव डाला है। केवल इन अंतरालों को बंद करने और मानवाधिकार को आगे बढ़ाने के उपायों से ही हम इस दुनिया से एक ऐसी दुनिया मे उबर सकते हैं जो बेहतर और अधिक न्यायसंगत और टिकआऊ है।
यह उल्लेखनिय है कि अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस प्रतिवर्ष 10 दिसंबर को मनाया जाता है। इस दिन को मनाने के पीछे मुय उद्देश्य लोगों के शारीरिक, सामाजिक, सांस्कतिक और आध्यात्मिक कल्याण में सुधार करना है।