Wed. Apr 24th, 2024

मंडी, 28 मार्च। महिला एवं बाल विकास निदेशालय, हिमाचल प्रदेश द्वारा 26 से 28 मार्च  तक सीसीडीयू राज्य प्रशिक्षण केंद्र ढांगसीधर मंडी में मंडी संभाग के अधिकारियों,  सामाजिक संगठनों, एनजीओ के लिए जेंडर बजटिंग पर आयोजित तीन दिवसीय संभाग स्तरीय प्रशिक्षण कार्यक्रम संपन्न हो गया।
प्रशिक्षण कार्यक्रम का समापन उपायुक्त मंडी अपूर्व देवगन ने किया। उन्होंने सरकार के कामकाज और समाज में समान अवसर बनाने के लिए सिविल सोसायटी संगठनों के महत्व पर जोर दिया। उन्होंने इस प्रशिक्षण को सफलतापूर्वक आयोजित करने के लिए सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग और महिला एवं बाल विकास निदेशालय को भी बधाई दी और निदेशालय को इस तरह के और अधिक प्रशिक्षण आयोजित करने के लिए प्रोत्साहित किया।
कार्यशाला के अन्तिम दिन मंडी मंडल के मंडी, बिलासपुर, कुल्लू और लाहौल-स्पीति जिलों के सामाजिक संगठनों ने इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में भाग लिया। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में पहले दो दिनों में मंडी मंडल के विभिन्न विभागों कृषि, बागवानी, जल शक्ति, उद्योग, पीडब्ल्यूडी, आरडीडी, उत्पाद शुल्क और कराधान, पुलिस, योजना, पशुपालन, राजस्व, भाषा और संस्कृति, पंचायती राज, उद्योग, शिक्षा, आयुष, श्रम और रोजगार, और वन आदि विभागों के अधिकारियों ने भाग लिया था।
मंडलायुक्त मंडी राखिल काहलों ने इस प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्घाटन किया था।  उन्होंने विभाग के अधिकारियों को अपने संबंधित विभागों में लिंग बजटिंग सेल बनाने और लिंग-विभाजित डेटा एकत्र करने के लिए प्रोत्साहित किया।  प्रशिक्षण के अंतिम दिन, महिला एवं बाल विकास के अतिरिक्त निदेशक मोहन दत्त ने लैंगिक भूमिकाओं पर जोर दिया और सामाजिक संगठनों के सदस्यों को इस प्रशिक्षण में बड़ी संख्या में भाग लेने के लिए धन्यवाद दिया।