Fri. Apr 12th, 2024

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता तथा सहकारिता मंत्री डाॅ. राजीव सैजल ने आज पुराने उपायुक्त कार्यालय सोलन में ‘स्वयं सहायता समूहों का आत्मनिर्भर भारत की ओर एक सत्त प्रयास’ के तहत हस्त निर्मित राखियों की प्रदर्शनी का शुभारम्भ किया।
इस अवसर पर स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं ने डाॅ. राजीव सैजल के माध्यम से प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को भी हस्त निर्मित राखियां भेंट कीं।
यह राखियां राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन एवं मुख्यमंत्री ग्रामीण कौशल योजना के प्रशिक्षणार्थियों द्वारा तैयार की गई हैं। सोलन जिला के विभिन्न स्वयं सहायता समूहों एवं मुख्यमंत्री ग्रामीण कौशल योजना के प्रशिक्षणार्थियों द्वारा मुख्य रूप से चीड़ की पत्तियों एवं कुशा घास से राखियां निर्मित की गई हैं।
डाॅ. सैजल ने इस अवसर पर सभी को रक्षा बन्धन की शुभकामनाएं देते हुए आशा जताई कि जिला में स्वयं सहायता समूहों द्वारा स्थानीय स्तर पर उपलब्ध चीड़ की पत्तियों एवं कुशा घास से निर्मित यह राखियां सभी को रक्षा बन्धन जैसे त्यौहार का अनुमप संदेश देंगी और महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने में सहायता करेंगी।
उन्हांेने कहा कि इस तरह के प्रयास आत्मनिर्भर ग्राम की कल्पना को साकार करने में सहायक सिद्ध होंगे। उन्होंने कहा कि महत्वकांक्षी मुख्यमंत्री ग्रामीण कौशल योजना प्रदेश में ऐसी शिल्पकला को प्रोत्साहन देने में सहायक सिद्ध होगी जो स्थानीय स्तर पर रोजगार का महत्वपूर्ण साधन बन सकती है। यह योजना प्रदेश के शिल्पकारों को सुदृढ़ आधार प्रदान करने में महत्वपूर्ण होगी।
डाॅ. सैजल ने हस्त निर्मित राखियां तैयार करने के लिए विभिन्न स्वयं सहायता समूहों की सराहना की। इन प्रयासों के माध्यम महिलाओं को घर पर ही रोजगार का उत्तम साधन उपलब्ध हुआ है। उन्हांेने स्वयं भी हस्त निर्मित राखियां क्रय की और अन्य को भी इस दिशा में प्रेरित किया।
यह हस्त निर्मित राखियां जिला के कण्डाघाट, सोलन व धर्मपुर में कार्यरत स्वयं सहायता समूहों द्वारा निर्मित की गई हैं। राखियां मुख्य रूप से स्वयं सहायता समूह बसाल, भोजनगर, जटोली, जाडला, मही, कण्डाघाट द्वारा तैयार की गई हैं। सोलन में यह हस्त निर्मित राखियां पुराने उपायुक्त कार्यालय में बिक्री के लिए उपलब्ध रहेंगी।
डाॅ. सैजल ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं एवं सहायिकाओं द्वारा मौली एवं घरेलू स्तर पर उपलब्ध अन्य वस्तुओं से तैयार राखियों का अवलोकन भी किया और इस प्रयास की सराहना की।
इस अवसर पर दून के विधायक परमजीत सिंह पम्मी, उपायुक्त सोलन केसी चमन, उपमण्डलाधिकारी सोलन रोहित राठौर, जिला ग्रामीण विकास अभिकरण के परियोजना अधिकारी राजकुमार, खण्ड विकास अधिकारी सोलन ललित दुल्टा सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।