Tue. Jul 23rd, 2024

मंडी, 28 सितंबर : जल शक्ति, बागवानी, राजस्व एवं सैनिक कल्याण मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने कहा कि हिमाचल प्रदेश में जुलाई 2022 तक सभी ग्रामीण परिवारों को कार्यात्मक घरेलू नल कनेक्शन उपलब्ध कराने के लक्ष्य को हासिल कर लिया जाएगा। इसके लिए प्रदेश के 12 जिलों को 3 वर्गों में रखकर चरणबद्ध तरीके से लक्ष्य हासिल करने की कारगर रणनीति बनाई गई है। इस काम पर इस साल 1700 करोड़ रुपये खर्चे जा रहे हैं।
वे मुख्यमंत्री श्री जय राम ठाकुर के जल शक्ति मिशन के लाभार्थियों के साथ वीडियो कॉंफ्रेंस के जरिए आयोजित वर्चुअल संवाद कार्यक्रम में बोल रहे थे। जल शक्ति मंत्री धर्मपुर से इस कार्यक्रम से ऑनलाईन जुड़े थे।
महेंद्र सिंह ठाकुर ने अपने संबोधन में कहा कि प्रदेश में मुख्यमंत्री श्री जय राम ठाकुर के कुशल मार्गदर्शन में जल जीवन मिशन के तहत हर घर को नल से शुद्ध जल प्रदान करने के लक्ष्य के साथ कार्यात्मक घरेलू नल कनेक्शन प्रदान करने के लिए लगातार समर्पित प्रयास किए जा रहे हैं । वर्ष 2024 के राष्ट्रीय लक्ष्य से काफी पहले हिमाचल में जुलाई, 2022 तक ही 100 फीसदी कवरेज का लक्ष्य हासिल कर लिया जाएगा।
प्रधानमंत्री और केंद्रीय जल शक्ति मंत्री का आभार
महेंद्र सिंह ठाकुर ने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय जल शक्ति मंत्री श्री गजेंद्र सिंह शेखावत का आभार जताते हुए कहा कि केंद्र सरकार से मिल रहे सहयोग से हिमाचल जल जीवन मिशन में शानदार काम करने में अव्वल रहा है। केंद्र सरकार ने योजना के कार्यान्वयन में धन की कोई कमी आड़े नहीं आने दी है।
मंडी जिला में इस साल 54 हजार 388 नल कनेक्शन लगाने का लक्ष्य
जलशक्ति मंत्री ने कहा कि मंडी जिला में 3 लाख 7 हजार 61 ग्रामीण परिवारों में से 1.65 लाख को पहले से ही नल कनेक्शन दिया गया है। शेष 1 लाख 41 हजार 559 को कार्यात्मक घरेलू नल कनेक्शन प्रदान करने का काम तेज गति से चल रहा है।
इस साल जिले में 54 हजार 388 कार्यात्मक घरेलू नल कनेक्शन लगाने का लक्ष्य रखा गया है। इसमें से अब तक 28031 नल कनेक्शन लगाए जा चुके हैं। साल 2021-22 के लिए 87 हजार 171 नल कनेक्शन लगाने का लक्ष्य है। इस तरह मंडी जिला के शतप्रतिशत कवरेज के लक्ष्य को मार्च 2022 तक हासिल कर लिया जाएगा।
संवाद कार्यक्रम के लिए जिला में की गई थी विशेष व्यवस्था
गौरतलब है कि मुख्यमंत्री के संवाद कार्यक्रम के लिए मंडी में उपायुक्त कार्यालय के एनआईसी कक्ष में विशेष व्यवस्था की गई थी। यहां उपायुक्त ऋग्वेद ठाकुर, जलशक्ति विभाग सुंदरनगर सर्किल के अधीक्षण अभियंता उपेंद्र वैद्य के अलावा जलशक्ति विभाग के अन्य अधिकारी व जल जीवन मिशन के लाभार्थी मौजूद रहे।
इसके अलावा जिला में बीडीओ कार्यालयों में वीडियो कॉंफ्रेंसिंग की व्यवस्था की गई थी, जहां संबंधित अधिकारियों के साथ जल जीवन मिशन के लाभार्थी मौजूद रहे। अन्य लोगों ने फेसबुक और ‘वैबएक्स’ के जरिए कार्यक्रम में भाग लिया।
बता दें, कि संवाद कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री जय राम ठाकुर ने प्रदेशभर के जीवन मिशन के लाभार्थियों से वीडियो कॉंफ्रेंस के जरिए सीधा संवाद किया, उनके अनुभव जाने और नल कनेक्शन से पानी की किल्लत से निजात मिलने पर बधाई दी।
कार्यक्रम में अधीक्षण अभियंता उपेंद्र वैद्य ने मंडी जिला में जल जीवन मिशन की प्रगति और आगे काम करने की योजना की जानकारी दी।
मुख्यमंत्री का लाभार्थियों से सीधा संवाद
लाभार्थियों ने कहा…खत्म हुई दिक्कत, नहीं रही अब पानी की किल्लत
‘पहले नल के एक कनेक्शन के लिए लगाने पड़ते थे दफ्तरों के चक्कर…..अब घर पर आकर खुद फॉर्म भर रहे अधिकारी’
संवाद कार्यक्रम में जुड़े जल जीवन मिशन के सैंड़कों लाभार्थियों ने एकस्वर में मुख्यमंत्री श्री जय राम ठाकुर और प्रदेश सरकार का आभार जताया।
सरकार का आभार जताते हुए द्रंग के लाल सिंह ने कहा कि पहले नल के एक कनेक्शन के लिए दफ्तरों के चक्कर लगाने पड़ते थे। लेकिन अब अधिकारी खुद घर पर आकर फॉर्म भर रहे हैं, कनेक्शन दे रहे हैं। बकौल लाल सिंह ‘गरीबों के काम घर पर हो रहे हैं। सदा ऐसी ही सरकार रहे।’
चैलचौक के मोहित कुमार और इशांत गुप्ता ने बताया कि पहले उन्हें घर पर नल न होने के चलते कोसों दूर से पानी ढोना पड़ता था, मगर जल जीवन मिशन से घर नल लगने से अब ये दिक्कत खत्म हो गई है और पानी की कोई किल्लत नहीं है। वहीं बल्ह के बालक राम और लालमन तथा पनारसा के कालू राम ने घर मंे नल से मिल रहे साफ पानी के लिए सरकार को धन्यवाद दिया।
इस दौरान मंडी के अधिशासी अभियंता विवेक हाजरी, जलशक्ति विभाग के अन्य अधिकारी और लाभार्थी मौजूद रहे।