Tue. Jul 23rd, 2024

मंडी में राज्य स्तरीय यशपाल जयंती समारोह का शुभारंभ

मंडी में राज्य स्तरीय यशपाल जयंती समारोह का शुभारंभ

मंडी, 3 दिसंबर। भाषा एवं संस्कृति विभाग द्वारा आयोजित राज्य स्तरीय यशपाल जयंती समारोह शुक्रवार सायं राजकीय वल्लभ महाविद्यालय सभागार में आरंभ हो गया। इस दो दिवसीय समारोह का शुभारंभ मंडी के अतिरिक्त उपायुक्त जतिन लाल ने यशपाल जी की तस्वीर पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलित करके किया।
इस अवसर पर यशपाल जी के परिवार से सरोज गोगी पाल भी मौजूद रहीं। कार्यक्रम में शषा विभाग के अतिरिक्त निदेशक सुरेश जम्वाल एवं सहायक निदेशक अल्का, प्रदेश भर से आए नामचीन साहित्यकार व महाविद्यालय के विद्यार्थियों एवं शोधार्थियों ने भाग लिया।
अपने संबोधन में जतिन लाल ने कहा कि यशपाल एक प्रखर क्रांतिकारी होने के साथ साथ प्रदेश के मूर्धन्य साहित्यकारों में से एक हैं। हिमाचल प्रदेश के नादौन से संबंधित होने के चलते यशपाल जी के साहित्य में हिमाचल की माटी की सौंधी खुशबू समाहित है। उन्होंने कहा कि भाषा एवं संस्कृति विभाग की ओर से हर वर्ष यशपाल जयंती का आयोजन किया जाता है जो सराहनीय है।
इस अवसर पर अतिरिक्त उपायुक्त ने मंडी के दिवंगत साहित्यकार स्वर्गीय नरेश पंडित की पुस्तक ‘झुनझुना’, का विमोचन ने किया। इस पुस्तक का संकलन एवं संपादन उनके चाचा डॉ. आर.के.राजू ने किया है, वहीं पर सुविख्यात साहित्यकार डॉ. विजय विशाल ने नरेश पंडित के बहुआयामी व्यक्तित्व का परिचय दिया।
इसके अलावा साहित्यकार राजेंद्र राजन के कहानी संग्रह ‘पापा आर यू ओके’ का विमोचन एसडीएम रितिका जिंदल ने किया।
इस मौके यशपाल द्वारा लिखित नाटक नशे नशे की बात का द कैरेक्टर्स ग्रुप के कलाकारों ने मंचन किया ।
दूसरे सत्र में सत्र की अध्यक्षता प्रदेश के प्रख्यात आलोचक एवं साहित्यकार डॉ. हेमराज कौशिक ने की। इस सत्र में दो कथाकारों ने अपनी कहानियों का पाठ किया। प्रसिद्ध साहित्यकार गंगाराम राजी द्वारा कहानी कबूतर तथा राजेंद्र राजन ने यातना शिविर कहानी का पाठ किया।
कार्यक्रम में जिला भाषा अधिकारी प्रोमिला ने मेहमानों का स्वागत किया।