Sun. Jul 14th, 2024

मंडी, 4 सितंबर : मुख्यमंत्री श्री जय राम ठाकुर का मंडी जिले का दो दिवसीय दौरा हर नजरिए से महत्वपूर्ण रहा । इस दौरान मुख्यमंत्री ने एक ओर जहां जिला के अधिकारियों के साथ बैठक कर कोरोना की छाया से निकलने के प्रयासों के बीच विकास कार्यों को नई गति देने का खाका खींचा, वहीं वे सर्किट हाऊस मंडी में जनसमस्याएं सुनने को घंटों लोगों के बीच रहे। लोगों को मुख्यमंत्री का जन संवाद का यह कार्यक्रम खूब जंचा।
इस दौरान लोगों ने दिल खोल के अपनी बातें मुख्यमंत्री के समक्ष रखीं…उन्हें अपनी मांगंे-समस्याएं बताईं। मुख्यमंत्री ने भी एक अभिभावक की तरह पूरे दिल से उनकी बातें सुनीं, समझीं और उनके समुचित समाधान के लिए मौके पर संबंधित अधिकारियों को जरूरी निर्देश दिए। मुख्यमंत्री से मिले स्नेह से लोग गदगद दिखे।
बता दें, मुख्यमंत्री ने जहां 2 सितंबर को प्रातः साढे़ 10 बजे मंडी पहुंचने के साथ ही विभिन्न विकासात्मक बैठकें की, वहीं शाम साढ़े 5 से देर शाम साढ़े 9 बजे तक सर्किट हाऊस में लोगों की समस्याएं सुनीं। अगली सुबह भी तड़के 8 बजे से जन संवाद का उनका कार्यक्रम शुरू हो गया और सुबह 11 बजे तक उन्होंने जनसमस्याएं सुनीं। इस दौरान मौसम का बिगड़ा मिजाज और बारिश की झड़ी भी लोगों के उत्साह के आगे उन्नीस साबित हुई। लोग मुख्यमंत्री से मिलने के लिए डटे रहे और मुख्यमंत्री भी पूरी संवेदना के साथ उनकी बात सुनते और साथ-साथ समाधान करते रहे।
इस दौरान किसी ने सड़क-पानी की समस्या बताई तो कोई रोजगार और आर्थिक सहायता के लिए मुख्यमंत्री से मिला । वहीं कई नई पंचायतों के गठन पर मुख्यमंत्री का धन्यवाद जताने आए थे। कोरोना के चलते जिला प्रशासन ने जन संवाद के लिए विशेष व्यवस्था की थी, इसमें सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पूरा पालन तय बनाया गया।
मुख्यमंत्री श्री जय राम ठाकुर ने हर व्यक्ति की समस्या के पक्के समाधान के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश देते कहा कि जनसमस्याओं का प्राथमिकता पर समयबद्ध समाधान सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि सरकार प्रत्येक हिमाचलवासी के जीवन में खुशहाली और तरक्की के लिए लगातार प्रयासरत है। सभी बुनियादी सुविधाओं के सुदृढ़ीकरण के साथ लोगों के जीवनस्तर में सुधार लाने के लिए ठोस प्रयास किए जा रहे हैं।
श्री जय राम ठाकुर ने लोक निर्माण विभाग की सड़क के निर्माण के चलते एक व्यक्ति के मकान को पहंचे नुकसान की शिकायत का संज्ञान लेते हुए विभाग को उसकी भरपाई के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि यह लोक निर्माण विभाग की जिम्मेदारी है कि अगर विभाग की सड़क निर्माण के कारण किसी के भी मकान को नुकसान हो तो उसकी ठीक व्यवस्था व भरपाई की जाए।