Thu. May 30th, 2024
राज्यपाल ने बच्चों को दी सीख, अच्छी पुस्तकें पढ़ने का शौक पालें
कीकली के पुस्तक विमोचन कार्यक्रम में नवोदित लेखकोें को किया प्रोत्साहित
राज्यपाल राजेन्द्र विश्वनाथ आर्लेकर ने आज शिमला के ऐतिहासिक गेयटी थियेटर में कीकली चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा आयोजित कार्यक्रम में ‘51 स्किन्टिलेटिंग टेल्स’ पुस्तक का विमोचन किया। यह पुस्तक बच्चों की कहानी संग्रह है, जिसमें देश भर के बच्चों की पुरस्कृत कहानियों को चयनित करके संकलित किया गया है।
राज्यपाल ने बच्चों की सृजनशीलता और उनकी उच्च स्तर की कल्पनाशक्ति की जमकर सराहना करते हुए कहा कि मौजूदा समय में इन्हीं गुणों को हम बच्चों में देखना चाहते हैं। देश में सृजनशीलता की कोई कमी नहीं है लेकिन जरूरत है उन्हें ढूंढ़ने की, उन्हें प्रोत्साहित करने की।
उन्होंने कहा कि नवोदित बच्चों को कीकली का बेहतर मंच मिला है, जो योग्य तरीके से बच्चों को मार्गदर्शन दे रहे हैं। बच्चों का सही मार्गदर्शन करना और उनकी ऊर्जा को सकारात्मक दिशा प्रदान करना हमारा कर्तव्य है। उन्होंने कहा कि आज अच्छी पुस्तकों को पढ़ने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि सभी में पुस्तकों को पढ़ने की आदत होनी चाहिए। इतना ही नहीं, स्टाॅल पर रखीं ऐसी पुस्तकों को खरीदने के लिए प्रेरित होना चाहिए।
राज्यपाल ने इस मौके पर नवोदित लेखकों को पुरस्कृत किया।
इस अवसर पर, कार्यक्रम के गेस्ट आॅफ आॅनर प्रख्यात लेखक व गीतकार इरशाद कामिल ने कहा कि जिस समाज में सोच होती है वहां सृजन होता है और जहां सृजन होता है वहां विकास होता है। सृजन व विकास हम सबकी जिम्मेदारी है।
कीकली चैरीटेबल ट्रस्ट की अध्यक्ष वंदना भागड़ा ने राज्यपाल का स्वागत किया तथा ट्रस्ट की विभिन्न गतिविधियों की विस्तृत जानकारी दी।