Fri. Apr 12th, 2024

मंडी, 26 जून: मंडी जिला में कल्याण विभाग द्वारा एक नई पहल करते हुए अंतर्राष्ट्रीय नशा निवारण दिवस के अवसर पर वर्चुल कार्यशाला का आयोजन उपायुक्त कार्यालय सभागार में किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता उपायुक्त ऋग्वेद ठाकुर ने की।
वर्चुल कार्यशाला के दौरान जिला के स्कूल व कॉलेजों के एनएसएस के स्वयं सेवियों उनके प्रभारी व प्रधानाचार्यों, अध्यापकों को सम्बोधित करते हुए ऋग्वेद ठाकुर ने कहा कि इस दिवस पर हम प्रतिज्ञा लें कि न तो नशा करेंगें और न ही किसी को करने देंगे। नशे जैसी बुराई को दूर करने के लिए प्रदेश सरकार और जिला प्रशासन प्रयत्नशील है।
उन्होंने युवाओं का आहवान् किया कि वे अपनी युवा शक्ति को देश और प्रदेश की आर्थिकी को मजबूत करने की दिशा में योगदान करें और सामाजिक कुरीतियों से दूर रहें। उन्होंने कहा कि वे इन सामाजिक कुरीतियों को जड़ से समाप्त करने के लिए अपने आसपास लोगों को भी जागरूक करें।
कोरोना महामारी का जिक्र करते हुए उपायुक्त ने कहा कि इस महामारी के चलते देश व प्रदेश की आर्थिक स्थिति पर काफी विपरीत प्रभाव पड़ा है। और इस आर्थिक मंदी के दौर से उबरने के लिए हम सभी को अपने दैनिक कार्यों के साथ-साथ 20 प्रतिशत अधिक काम करना होगा ताकि हम देश व जिला को पुनः आर्थिकी के बेहतर स्तर पर ले जा सकें।
उन्होंने युवाओं से कहा कि बरसाती मौसम के मद्धेनजर अपने अपने क्षेत्रों में पारम्पारिक पेयजल स्रोत्रों की साफ-सफाई का भी विशेष ध्यान रखें ताकि आंत्रशोध जैसी बिमारियों को फैलने से रोका जा सके। उन्होंने कहा स्वच्छता बारे भी अधिक से अधिक युवाओं व लोगों को प्रेरित करें।
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पुनित रघु ने नशीले पदार्थों में संलिप्त व्यक्तियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई बारे विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने युवाओं से कहा कि वह अपने आसपास इस बुराई में संलिप्त व्यक्तियों पर नजर रखें और किसी भी स्थिति में पुलिस को तुरन्त सूचना दें।
एनएसएस के प्रदेश समन्वयक प्रो0 बी.आर.ठाकुर भी वर्चुल कार्यशाला के दौरान युवाओं से रूबरू हुए और उन्हें एनएसएस से जुड़कर नशे के विरूद्ध लड़ने का आहवान् किया। उन्होंने बताया कि प्रदेश में स्कूल व कॉलेज के 80 हजार युवा एनएसएस से जुड़ कर सामाजिक कुरीतियों के विरूद्ध अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।
कार्यशाला में जन सूचना एवं शिक्षा अधिकारी एन.आर.ठाकुर ने नशीले पदार्थों के मानव जीवन पर पड़ने वाले विपरीत प्रभावों बारे विस्तार से चर्चा की।
जिला कल्याण अधिकारी आर.सी. बंसल ने बताया कि नशीले पदार्थों के मानव जीवन परी पड़ने वाले दुष्प्रभावों को लेकर विभाग द्वारा ऑन लाईन नारा लेखन व चित्रकला प्रतियोगिता आयोजित की गई थी। जिसमें नारा लेखन में धर्मेन्द कुमार, हिमानी शर्मा, योगिता शर्मा, धर्मीला कुमारी, आशा मिततल, सहजल गुपता, भवानी, अंशुमन ठाकुर, कौशल्या कुमारी और चित्रकला प्रतियोगिता में भूमिका ठाकुर, मनदीप कुमार, नंदनी शर्मा, अंश गुप्ता, ईशा शर्मा, अक्षा कुमारी, गरिमा, प्रीति, श्रष्टि ठाकुर, कार्तिक गुप्ता क्रमशः पहले दस स्थानों पर रहे। इन सभी विजेताओं को नगद पुरस्कार राशि प्रदान की जाएगी।
कार्यशाला में तहसील कल्याण अधिकारी कुंदन हाजरी, जितेन्द्र सैनी, कार्यक्रम समन्वयक डॉ. वरूण सैनी सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।