Tue. May 28th, 2024

शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह ठाकुर ने आज यहां शिमला से जारी प्रेस वक्तव्य में कहा कि कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर द्वारा मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर पर दिल्ली से खाली हाथ लौटने बारे बयान निराधार तथा तथ्यहीन है। मुख्यमंत्री का दिल्ली का दो दिवसीय दौरा सफल रहा है क्योंकि केन्द्र सरकार ने प्रदेश के लिए केन्द्रीय सड़क एवं अधोसंरचना निधि (सीआरआईएफ) के तहत 194.58 करोड़ रुपये की लागत की 12 परियोजनाएं स्वीकृत की हैं। मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने दिल्ली दौरे के दौरान केन्द्रीय सड़क, परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी से इन परियोजनाओं की स्वीकृति का मामला उठाया था। भारत सरकार द्वारा इन 12 परियोजनाओं की स्वीकृति का श्रेय मुख्यमंत्री के निरंतर प्रयासों को जाता है।

गोविन्द सिंह ठाकुर ने कहा कि श्री राठौर यह भूल गए हैं कि उनकी सरकार के समय में प्रदेश के मुख्यमंत्री दिल्ली जाते थे और केन्द्र में यूपीए सरकार होने के बावजूद भी विभिन्न केन्द्रीय मंत्रियों से हिमाचल को केवल कोरा आश्वासन ही मिलता था। यही नहीं कई बार तो कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष उन्हें मुलाकात का समय भी नहीं देते थे।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने अपने दो दिवसीय दौरे के दौरान छह वरिष्ठ केन्द्रीय मंत्रियों से मुलाकात की और हिमाचल के मुद्दों को उठाया। इसके साथ ही भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा से भेंट की तथा प्रदेश के विकासात्मक मुद्दो पर चर्चा करने के बाद लौटे हैं।

शिक्षा मंत्री ने कहा कि केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने प्रदेश के लिए 1000 डी-टाइप आॅक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध करवाए जाएंगे, जिसमें से 500 सिलेंडर प्रदेश को प्राप्त हो चुके हैं, जबकि 500 सिलेंडर शीघ्र मिलने की उम्मीद है। काॅरपोरेट सोशल रिस्पाॅंसिबिलिटी फंड के तहत 300 आॅक्सीजन कंसन्टेªटर भी राज्य के लिए सुनिश्चित किए गए हैं, जिससे प्रदेश की आॅक्सीजन क्षमता में वृद्धि होगी। केंद्रीय मंत्री ने मुख्यमंत्री को राज्य में हिंदुस्तान पेट्रोलियम के माध्यम से 200 करोड़ रुपये के निवेश से 200 किलोलीटर क्षमता का इथेनाॅल संयंत्र स्थापित करने का भी आश्वासन दिया।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने केंद्रीय नागरिक उड्डयन, आवासन और शहरी मामले राज्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी के साथ मंडी जिले में प्रस्तावित हवाई अड्डे और राज्य के अन्य हवाई अड्डों से संबंधित विभिन्न मुद्दों पर विस्तृत चर्चा की। उन्होंने कहा कि प्रस्तावित ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट मंडी का लिडार सर्वे करवाने के लिए एक टीम मंडी पहुंच चुकी है। उन्होंने बताया कि मंडी हवाई अड्डे का एलआईडीएआर सर्वेक्षण 7 जून, 2021 से शुरू हो गया है। उन्होंने कहा कि नागरिक उड्डयन मंत्री ने भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण को प्रस्तावित मंडी हवाई अड्डे के निर्माण के लिए किए जा रहे अनुकरण अभ्यास में तेजी लाने का निर्देश दिया है।

शिक्षा मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के साथ राज्य को वित्त वर्ष 2017-18, 2018-19 और 2019-2020 के लिए भारत सरकार से देय जीएसटी मुआवजे का मामला उठाया है, जिस पर केन्द्रीय मंत्री ने हर संभव सहायता करने का आश्वासन दिया है। उन्होंने केन्द्रीय मंत्री को एशिया विकास बैंक द्वारा वित्त पोषण के लिए 1892 करोड़ रुपये की पर्यटन परियोजना को स्वीकृति प्रदान करने बारे भी अवगत करवाया।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से राज्य के वैक्सीन डोज़ के आवंटन को बढ़ाने का आग्रह किया। मुख्यमंत्री ने ऊना में स्थापित किए जाने वाले बल्क ड्रग पार्क और राज्य में मेडिकल डिवाइस पार्क, इलेक्ट्रिक डिवाइस मैन्युफैक्चरिंग हब को शीघ्र मंजूरी देने का आग्रह भी किया है।

गोविन्द सिंह ठाकुर ने कहा कि कांग्रेस नेता मुख्यमंत्री द्वारा दिल्ली जाने को गलत नजरिये से देख रहे हैं, जबकि प्रदेश के हित के लिए मुख्यमंत्री केन्द्र सरकार के साथ समय-समय पर बातचीत कर प्रदेश के विकास को सुनिश्चित कर रहे हैं।