Sun. Jun 16th, 2024

शिमला शहर में स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत 550 करोड़ रुपये व्यय कर किया जाएगा शिमला शहर का सौंदर्यीकरण। यह बात आज शहरी विकास, आवास, नगर नियोजन, विधि, संसदीय कार्य एवं सहकारिता मंत्री सुरेश भारद्वाज ने शिमला सब्जी मण्डी में 120 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाली 467 दुकानों, लोअर बाजार, राम बाजार तथा गंज बाजार क्षेत्र का निरीक्षण करने के उपरांत कही।
उन्होंने कहा कि इस प्रोजेक्ट के तहत कृष्णा नगर के 36 खण्डों में भवनों का भी निर्माण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि भारत सरकार द्वारा हिमाचल प्रदेश में दो शहरों को स्मार्ट सिटी के लिए चयनित किया गया था, जिसमें सबसे पहले धर्मशाला तथा दूसरे स्थान पर शिमला को रखा गया था। इस प्रोजेक्ट के तहत संजौली से आईजीएमसी तक स्मार्ट पाथ तथा आईजीएमसी की पार्किंग तथा विकास नगर वार्ड में स्मार्ट सिटी मिशन के तहत पांच मंजिला भवन बनाया जाएगा, जिसमें 13 करोड़ रुपये खर्च होंगे। इस भवन में पार्किंग, काॅमरशियल काॅम्पलैक्स तथा सामुदायिक केन्द्र समारोह हेतु बनाया जाएगा।
उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार एवं शहरी मंत्रालय की ओर से करवाए गए स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 में शिमला शहर ने 65वां स्थान प्राप्त किया है। इस कड़ी को हमें आगे बढ़ाना है और शहर को स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत और सुन्दर बनाना है।
इस प्रोजेक्ट के तहत शहरवासियों को स्वच्छ पेयजल उपलब्ध करवाना, वाटर एटीएम, शौचालय, ट्रैफिक जाम से लोगों को निजात दिलाना, पार्किंग की सुविधा उपलब्ध करवाना तथा वृद्ध लोगांे के लिए डे-केयर सेंटर की सुविधा तथा घुमने के लिए पार्कों की सुविधा उपलब्ध करवाना, शहर में जहां वर्षा शालिकाओं की आवश्यकता होगी वहां वर्षा शालिकाओं का निर्माण करना तथा बच्चों के बौद्धिक एवं शारीरिक विकास के लिए पार्क उपलब्ध करवाना है। उन्हांेने बताया कि संजौली, ढली और छोटा शिमला के चैराहों को चैड़ा करने का कार्य भी तेजी से किया जाएगा, जिससे शहर में रह रहे आमजन मानस को ट्रैफिक जाम से निजात मिल सके।
उन्होंने शिमला मण्डी आढ़ती एसोसिएशन के पदाधिकारियों के साथ शिमला मण्डी में भी सामुहिक वार्ता करते हुए कहा कि यहां पर व्यवसाय कर रहे सभी व्यवसायियों की 25 दुकानों को फेस वन में तोड़ कर उनके लिए स्टाॅल बनाए जाएंगे, जिससे उनको अपना व्यवसाय करने में किसी प्रकार की कठिनाई का सामना न करना पड़े। इसी प्रक्रिया को करते हुए यह सुविधाएं सबको दी जाएगी। इस दौरान स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट से जुड़े सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों के साथ बैठक कर उन्हें आदेश दिए कि इस मण्डी में व्यवसाय कर रहे सभी कारोबारियों के साथ समन्वय बांध कर सभी दुकानों का निर्माण कार्य तेजी से किया जाए।
इस अवसर पर शिमला नगर निगम महापौर सत्या कौंडल, मनोनीत पार्षद दीपक शर्मा, जिला उपाध्यक्ष शिमला संजय कालिया, सचिव अजय सरण, सचिव मण्डी गंज बाजार अरूण, नगर निगम एवं स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के प्रबंध निदेशक पंकज राय, हिमुडा की अधीक्षण अभियंता अंजौरी कपूर, अधिशाषी अभियंता संदीप सैनी तथा शिमला मण्डी होल सैलर प्रधान सतपाल शर्मा उपस्थित थे।