Mon. Feb 26th, 2024

शिमला, 13 फरवरी: प्रदेश में यातायात व परिवहन समस्या का निवारण कर लोगों को सुविधा प्रदान करने के लिए जिला शिमला पुलिस द्वारा आरम्भ की की गई योजना शिमला सिटि ट्रेफिक रेगुलेशन एण्ड मेनेजमेंट प्लान आने वाले समय में शिमला में यातायात को सुचारू बनाने तथा हादसों पर रोक लगाने के लिए अतयन्त कारगर साबित होगा ।
यह विचार आज शहरी विकास, आवास, नगर नियोजन व सहकारिता मंत्री सुरेश भारद्वाज ने जिला पुलिस द्वारा बचत भवन में आयोजित यातायात व्यवस्था व नशा निवारण पर चर्चा कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए व्यक्त किए । उन्होंने बताया कि जिला पुलिस की यह पहल आने वाले समय में प्रदेश के अन्य जिलों के लिए भी अतयन्त सार्थक साबित होगी । उन्होंने लोगों से यातायात व परिवहन सम्बन्धी नियमों की अनुपालन कर सहयोग की अपील की । उन्होंने कहा कि शिमला नगर समार्ट सीटी तभी कहलाएगा यदि हम प्रत्येक क्षेत्र में स्मार्ट रूप से कार्य करेंगे । तकनीक का अधिक उपयोग कर लोगों को सुविधाऐं प्रदान करना अधिकारियों का कर्तव्य होना चाहिए । उन्होंने नगर निगम को शहर के विभिन्न क्षेत्रों में स्थापित ट्रेफिक लाईटस के बिजली बिल अदा करने के निर्देश दिए ताकि शहर की ट्रफिक लाईटों को उपयोग में लाकर पुलिस कर्मियों की सेवाऐं अन्य कार्यो के लिए ली जा सके ।
उन्होंने बताया कि शिमला नगर में यातायात व्यवस्था को सुचारू बनाए रखने तथा हादसों में कमी लाने के लिए शिमला व इसके आसपास के क्षेत्रों में अम्रुत मिशन के तहत फुट ओवर ब्रिज का निर्माण और सड़कों को चैड़ा करने का कार्य किया जा रहा है । उन्होंने बताया कि शिमला नगर निगम क्षेत्र में 1350 जगहों को यलो लाईन पार्किंग के लिए चिन्हित किया गया है । विकासनगर शिमला में 10 करोड़ रू0 की लागत से बनने वाली पार्किंग की टेंडर प्रक्रिया पूर्ण की जा चुकी है । उन्होंने स्मार्ट सिटी के तहत पुलिस के सुझावों को शामिल करने का अधिकारियों को निर्देश दिया । उन्होंने कहा कि यहां चर्चा कार्यक्रम में सम्बध विभाग के अधिकारियों द्वारा सुझाए गए बिन्दुओं पर अमल किया जाएगा ।
उन्होंने पुलिस द्वारा नश निवारण के सम्बन्ध में किए गए सर्वे और उसके निवारण के लिए किए जा रहे प्रयासों की प्रशंसा की । उन्होंने लोगों से अपील की कि समाज को नशा मुक्त बनाने और युवाओं के जोश व शक्ति को साकारात्मक दिशा प्रदान करने के लिए पुलिस का साथ दें । उन्होंने शिमला नगर की विभिन्न नशा निवारण समितियों, पुलिस कल्ब व विभिन्न स्तरों पर पंचायती राज संस्थाओं के चुने हुए प्रतिनिधियों व अन्य संस्थाओं से इस सम्बन्ध में सहयोग की अपेक्षा की । उन्होंने कहा कि नशा कारोबारियों पर शिकंजा कसने के लिए पुलिस व लोग मिलजुल कर कार्य करें ताकि उनपर कठोर कार्यवाही की जा सके ।
उन्होंने पुलिस विभाग द्वारा यातायात व्यवस्था को सुचारू बनाने के लिए गहन शोध के बाद प्रकाशित शिमला सीटी ट्रेफिक रेगुलेशन प्लान एण्ड मेनेजमेंट प्लान दस्तावेज का अनावरण किया और विधिरूप से इस कार्ययोजना का शुभारभं भी किया । उन्होंने पुलिस अधीक्षक मोहित चावला की इस पहल के लिए सराहना की । उन्होंने नशा निवारण समितियों के सदस्यों को बैच भी प्रदान किए ।
परिचर्चा के दौरान पुलिस अधीक्षक मोहित चावला ने शिमला शहर के लिए विभाग द्वारा प्रस्तावित शिमला सीटी ट्रेफिक रेगुलेशन एण्ड मेनेजमेंट प्लान बारे विस्तृत जानकारी दी । उन्होंने बताया कि सात महीनों के गहन शोध के उपरान्त 70 पेजों के इस दस्तावेज को तैयार किया गया है जिसमें यातायात को सुचारू बनाए रखने के लिए प्र्रत्येक बिन्दु शामिल है । उन्होंने नशे से बचाव तथा हादसों में कमी लाने तथा स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए शिमला शहर में पैडेस्ट्रीयल पोलिसी तथा साईकलिंग पोलिस आरभं करने का सुझाव दिया जिससे पयार्यवरण संरक्षण भी सुनिश्चित होगा ।
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रवीर ठाकुर ने नशा निवारण के सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी प्रदान की तथा इसके निवारण के लिए अपनाई जाने वाली रणनीति व कार्ययोजना पर विचार व्यक्त किए । निदेशक एवं आयुक्त परिवहन अनुपम कश्यप ने यातायात व्यवस्था को सुदृड़ बनाने तथा हादसों को रोकने के लिए गुड स्मारिटन (नेक व्यक्ति) के विचारों को प्रबलता प्रदान करने का सुझाव दिया । इसके अतिरिक्त प्रदेश में हादसों में कमी लाने व परिवहन व्यवस्था को सुचारू बनाए रखने के लिए परिवहन विभाग द्वारा किए जा रहे कार्यों की जानकारी दी । आयुक्त नगर निगम आशीष कोहली ने नगर निगम के तहत यातायात व्यवस्था सुचारू बनाए रखने तथा विभिन्न अन्य सुविधाओं की उपलब्धता के लिए किए जा रहे निगम के कार्यो व प्रयासों की विस्तृत जानकारी प्रदान की । महाप्रबन्धक स्मार्ट सिटी परियोजना नितिन गर्ग ने भी महत्वपूर्ण सुझाव दिए ।
परिचर्चा में भाग लेते हुए महापौर शिमला नगर निगम सत्या कोैण्डल ने शिमला नगर व अपने वार्ड में यातायात व्यवस्था को नियमित बनाने तथा नशे को रोकने के लिए महत्वपूर्ण बिन्दू सुझाए । कैलाश फैडरेशन के अध्यक्ष रवि मेहता ने विशेष रूप से यातायात जाम से उत्पन्न समस्या व सड़कों के किनारे खडे़े वाहनों की व्यवस्था के सम्बन्ध में सुझाव दिए ।
इस अवसर पर पार्षद डा0 किमी सूद, आशा शर्मा, नशा निवारण समिति, पुलिस कल्ब के सदस्यों ने भी चर्चा में भाग लिया यातायात समस्या व नशा निवारण बिन्दुओं पर अपनी राय व्यक्त की ।