Fri. Apr 12th, 2024

शिमला, 15 अगस्त
आजादी का अमृत महोत्सव 75वें स्वतंत्रता दिवस समारोह का जिला स्तरीय कार्यक्रम आज जिला शिमला के कोटखाई में डीएवी काॅलेज के प्रागंण में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। बहुउद्देशीय एवं ऊर्जा तथा गैर पारम्परिक ऊर्जा स्त्रोत मंत्री सुखराम चौधरी ने काॅलेज प्रांगण में ध्वजारोहण किया तथा आकर्षक परेड की सलामी ली।
उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर जी के नेतृत्व में प्रदेश ने उपलब्धियों के नए आयाम स्थापित किए है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में लगभग 27 हजार मेगावाट विद्युत उत्पादन की क्षमता है, जिसमें से 23 हजार 500 मेगावाट क्षमता दोहन योग्य है। उन्होंने बताया कि 10 हजार 756 मेगावाट क्षमता का दोहन विभिन्न क्षेत्रों के अंतर्गत कर लिया गया है, जिसमें राज्य क्षेत्र में 765.92 मेगावाट, संयुक्त उपकरण अथवा केन्द्रीय क्षेत्र में 7757.73 मेगावाट, निजी क्षेत्र में 2373.75 मेगावाट, यमुना बेसिन परियोजनाओं में भागदारी से 131.57 मेगावाट और रंजीत सागर डैम परियोजना में भागीदारी से 27.60 मेगावाट शामिल है।
उन्होंने बताया कि 158 करोड़ रुपये की लागत से प्रदेश में वाॅल्टेज बढ़ाने की कार्य योजना क्रियान्वित की जा रही है। ईज आॅफ डूईंग को प्रभावी रूप से लागू किया जा रहा है।
उन्होंने बताया कि जुब्बल-कोटखाई विधानसभा क्षेत्र में गले हुए लकड़ी के खम्बों को तीन चरणों में बदला जा रहा है। कम वाॅल्टेज की समस्या से निपटने के लिए जुब्बल-कोटखाई विधानसभा क्षेत्र में 41 ट्रांसफार्मर, 38.4 किलोमीटर लम्बी एचटी लाईन, 69.77 किलोमीटर एलटी लाईन तथा 0.20 किलोमीटर एलटी लाईन का संवर्धन किया जाएगा। सामान्य सेवा कनैक्शन योजना के तहत 12 ट्रांसफार्मर, 9.20 किलोमीटर लम्बी एचटी लाईन तथा 11.80 किलोमीटर लम्बी एलटी लाईन का निर्माण किया जाएगा।
उन्होंने बताया कि धागंवी-गुम्मा-2 और कोटि में ट्रांसफार्मर का संवर्धन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि चमैन में 22 केवी नियंत्रण उप-केन्द्र का कार्य पूरा कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि जिला में कुल 810 किलोमीटर सड़कें पक्की की गई है जबकि 404 किलोमीटर मोटर योग्य सड़को का निर्माण तथा 472 किलोमीटर जल निकासी कार्य किए गए हैं।
उन्होंने बताया कि जिला में 11 पुलों का निर्माण तथा 34 गांव सड़कों से जोड़े गए हैं वहीं 18 आवासीय भवन व 11 कार्यालय भवनों का निर्माण किया गया। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत लगभग 180 करोड़ रुपये की राशि स्वीकृत कर 26 निर्माण कार्यों पर व्यय की जा रही है। लोक निर्माण विभाग के तहत जुब्बल-कोटखाई क्षेत्र में 83 विकास कार्यों पर 164 करोड़ रुपये की राशि व्यय की जा रही है।
उन्होंने कहा कि पराला मण्डी के प्रोसेसिंग प्लांट का कार्य तेजी से चल रहा है।
उन्होंने बताया कि कोविड टीकाकरण के लिए जिला में 420 टीकाकरण केन्द्र स्थापित किए गए हैं। जिला में अभी तक 6 लाख 17 हजार 60 लोगों को वैक्सीनेट किया जा चुका है, जिसमें से 4 लाख 54 हजार 572 लोगों को पहली डोज तथा 1 लाख 62 हजार 488 लोगों को दूसरी डोज लगा दी गई है।
हिम केयर योजना के अंतर्गत अभी तक जिला में 30 हजार 986 लाभार्थियों ने पंजीकृत अस्पतालों में लाभ लिया, जिस पर 38 करोड़ 58 लाख 20 हजार रुपये की राशि व्यय की गई है।
इस अवसर पर उन्होंने उपस्थित जन समुदाय को देश को प्रगति के पथ पर ले जाने के लिए निष्ठा से कार्य करने की शपथ भी दिलवाई।
समारोह में स्वतंत्रता सेनानियों के परिजनों तथा उत्कृष्ट खिलाड़ियों को सम्मानित भी किया गया।
इस अवसर पर मंत्री ने वहां स्वयं सहायता समूह, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा तैयार उत्पाद की प्रदर्शनी का उद्घाटन भी किया।
स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा कार्यक्रम स्थल पर कोविड वैक्सीन टीकाकरण का स्टाॅल भी स्थापित किया गया था।
कार्यक्रम के दौरान देश भक्ति व आजादी के महोत्सव की भावना से ओत-परोत सांस्कृतिक कार्यक्रम में स्थानीय लोक शैली के गीत व नृत्य तथा समूह गान कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण रहे।
कार्यक्रम में हिमफैड के अध्यक्ष गणेश दत्त, ग्रामीण विकास बैंक की अध्यक्षा शशी बाला, आईटी सेल के प्रदेश संयोजक चेतन बरागटा, महासु जिला अध्यक्ष अजय श्याम, मण्डलाध्यक्ष गोपाल जबईक, उपायुक्त शिमला आदित्य नेगी, पुलिस अधीक्षक मोहित चावला तथा अतिरिक्त उपायुक्त किरण भड़ाना भी उपस्थित थे।