Sat. Jun 22nd, 2024

समलैंगिक,बाईसैकशुअल और ट्रांसजेंडर समुदाय (LGBTQ) और उनके सहयोगियों के गौरव और समान अधिकारों को बढ़ावा देने के लिए, शूलिनी विश्वविद्यालय ने LGBTQ+ समुदाय के साथ लोगों की एकजुटता प्रदर्शित करने के लिए एक आभासी कार्यक्रम का आयोजन किया।

कार्यक्रम का संचालन डीन स्टूडेंट वेलफेयर श्रीमती पूनम नंदा द्वारा किया गया और कार्यक्रम की थीम थी ‘स्वयं बनो’। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता पंजाब विश्वविद्यालय के पहले ट्रांसजेंडर छात्र धनंजय चौहान और कार्यक्रम का मुख्य फोकस एलजीबीटीक्यू + समुदाय को बढ़ावा देना और छात्रों को इनके कामों और अधिकारों के प्रति जागरूक करना था।
धनंजय चौहान ने ट्रांसजेंडर बनने के बाद अपने कठिन सफर के बारे में बात की। चौहान ने LGBTQ+ समुदाय के लिए अपने काम और समुदाय के समान अधिकारों के लिए लड़ने के अपने संघर्ष पर भी चर्चा की।

शूलिनी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. अतुल खोसला ने इस विचार को विकसित करने के लिए छात्रों के प्रयासों की सराहना की और दूसरों को प्रेरित करने के लिए धनंजय चौहान को धन्यवाद दिया। कार्यक्रम का समापन प्रश्नोत्तर सत्र और छात्रों के विचार साझा करने के साथ हुआ।