Tue. Apr 23rd, 2024
स्थापना दिवस की शुरुआत विश्वविद्यालय परिसर के अंदर शूलिनी मंदिर में हवन के साथ हुई, जिसमें चांसलर प्रो. पीके खोसला, फाउंडेशन ऑफ लाइफ साइंसेज एंड बिजनेस मैनेजमेंट की अध्यक्ष श्रीमती सरोज खोसला, प्रो चांसलर श्री विशाल आनंद, कुलपति प्रोफ़ेसर अतुल खोसला और ट्रस्ट के संस्थापक सदस्य श्री सतीश आनंद और श्री अशोक आनंद।
इसके बाद भारतीय संविधान गैलरी, बास्केटबॉल कोर्ट, करियर और अंतर्राष्ट्रीय मामलों के कार्यालय, दो रसायन विज्ञान प्रयोगशालाओं, एस्टेट स्टोर और कार्यालय और एक एम्बुलेंस सहित कई उद्घाटन हुए। एक साइकिल क्लब भी शुरू किया गया जिसमें विश्वविद्यालय के छात्रों और शिक्षकों के उपयोग के लिए 10 साइकिलें रखी जाएंगी।
चांसलर प्रोफेसर पीके खोसला ने कार्यक्रम को संबोधित किया जिसमें उन्होंने कहा कि, “हम सभी को गर्व होना चाहिए कि शूलिनी अनुसंधान के लिए देश का सबसे अच्छा विश्वविद्यालय है और एशिया में 14 वां है। उन्होंने शूलिनी के आगे की लक्ष्य के बारे में बात की जो विश्व की शीर्ष 200 विश्वविद्यालयों में से एक बनना है।
प्रो चांसलर श्री विशाल आनंद ने पिछले 12 वर्षों में शूलिनी विश्वविद्यालय की यात्रा के बारे में बात की। उन्होंने कहा कि, ”शूलिनी को शीर्ष 500 विश्वविद्यालय बनने में 12 साल लग गए और अब शीर्ष 200 बनने में 3-4 साल लगेंगे.’ उन्होंने छात्रों को और अधिक प्रयास करने के लिए प्रोत्साहित किया।
इस अवसर पर कुलाधिपति द्वारा 40 से अधिक शोधकर्ताओं को सम्मानित किया गया। उनके योगदान का सम्मान करने के लिए उन्हें चेक प्रदान किया गया।

इसके बाद कव्वाली, भांगड़ा और बिहू नृत्य सहित कई प्रदर्शन हुए। कार्यक्रम का समापन कुलपति प्रोफेसर अतुल खोसला ने किया जिसमें उन्होंने विश्वविद्यालय के छात्रों और संकाय सदस्यों को बधाई दी और कहा कि यह एक बड़ी यात्रा की शुरुआत है।