Wed. Apr 24th, 2024

शूलिनी विश्वविद्यालय में अंग्रेजी विभाग द्वारा आयोजित डिटेक्टिव फिक्शन पर एक वेबिनार सफलतापूर्वक संपन्न हुआ।
यह बैलेटरिसटीक: शूलिनी लव्स लिटरेचर सोसाइटी द्वारा प्रत्येक शुक्रवार को आयोजित गतिविधियों का हिस्सा है , जिसका उद्देश्य पुस्तकों, लेखकों और विभिन्न साहित्यिक विधाओं की पर चर्चा कर साहित्य को एक साथ लाना है।

“गुमसो कॉलिंग” अनूठे शीर्षक के तहत सेमिनार के दो सत्र विद्वानों और छात्रों के साथ जासूसी शैली के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा करते हुए आयोजित किए गए। पहले सत्र में दो प्रस्तुतियाँ मुख्य रूप से एडगर एलन पो और आर्थर कॉनन-डॉयल पर केंद्रित थीं। समापन सत्र में, शहरी परिदृश्य की भूमिका – विशेष रूप से शहर – व्होडुनिट में, महिला जासूस और अन्य संबंधित मुद्दों पर चर्चा की गई।

विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों से आए वक्ताओं ने अपने विचार साझा किए, इनमें इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय (दिल्ली) से बरनाली साहा, अशोक विश्वविद्यालय (सोनीपत) से अनूप शर्मा, हैदराबाद से स्मिता वर्गीस और सविता शामिल है । पंजाब विश्वविद्यालय से मनजिंदर कौर, अन्य पैनलिस्ट में जालंधर से नम्रता निसंद्रा, शूलिनी से चारु अहलूवालिया और कई छात्र शामिल थे। वेबिनार का आयोजिन शूलिनी के अंग्रेजी विभाग की मंजू जैदका, पूर्णिमा बाली और नीरज पिज़ार द्वारा किया गया , और शूलिनी के होटल प्रबन्धन विभाग से प्रतीप मजूमदार द्वारा सफलता पूर्वक संपन्न किया गया ।

इन साप्ताहिक वेबिनार ने साहित्य समाज की स्थापना के बाद से बहुत कम समय में बहुत लोकप्रियता हासिल की है। छात्रों, शिक्षाविदों और अन्य लोगों के साथ बेहद लोकप्रिय यह वेबिनार, फेसबुक पेजों पर लाइव स्ट्रीम किया जाता है, प्रत्येक वेबिनार 1,200 से 4,000 तक की एक बड़ी संख्या में देखे जा रहे है । “यह इंगित करता है कि कोरोना-प्रभावित ईस मुश्किल समय में लोग सार्थक साहित्यिक गतिविधि के लिए काफी उत्सुक हैं जो उन्हें वर्तमान संकट से निपटने में मदद करेगा,” एचओडी, अंग्रेजी विभाग , प्रोफेसर मंजू जैदका, ने कहा