Fri. Apr 12th, 2024
शूलिनी विश्वविद्यालय में स्कूल ऑफ एंशिएंट इंडियन विजडम एंड योग साइंसेज के सहयोग से योगानंद सेंटर ऑफ थियोलॉजी (YCT) ने भारत के योगदा सत्संग सोसाइटी (YSS) के वरिष्ठ भिक्षु स्वामी कृष्णानंद गिरि के साथ एक सत्र का आयोजन किया। चांसलर प्रोफेसर पीके खोसला और एसआईएलबी अध्यक्ष श्रीमती सरोज खोला ने सत्र में स्वामी गिरि का स्वागत किया।
छात्रों और शिक्षकों को अपने संबोधन में, स्वामी कृष्णानंद गिरि ने विज्ञान और आध्यात्मिकता के बीच संबंध की बात की । उन्होंने वैज्ञानिक अनुसंधान के उन क्षेत्रों को छुआ जो योग के अभ्यास से मेल खाते हैं।  उन्होंने कहा, की  “गणित द्वारा मात्रा निर्धारण को चुनौती दी जाती है, लेकिन कुछ हद तक, सही उपकरणों और मानसिकता के साथ मापा जा सकता है।”
 लवेश रायखी ने आभा और इसकी सात परत वाली ऊर्जाओं की वैज्ञानिक व्याख्या पर विस्तार से प्रकाश डाला। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि सकारात्मक सोच, ‘ओम’ का जाप और नियमित गहन ध्यान व्यक्ति की आभा का विस्तार कर सकता है और आध्यात्मिक कल्याण को बढ़ा सकता है।
स्वामी कृष्णानंद गिरि ने सीवी रमन, चन्द्रशेखर और वी शांता जैसे प्रतिष्ठित वैज्ञानिकों की विरासत का जिक्र करके दर्शकों की आकांक्षाओं को जगाया, जो समर्पण और बलिदान के माध्यम से अपने-अपने क्षेत्रों में महान बने। उन्होंने छात्रों को शूलिनी विश्वविद्यालय द्वारा पेश किए गए मौलिक, अग्रणी अनुसंधान के सभी अवसरों को समझने के लिए प्रोत्साहित किया।
स्वामी कृष्णानंद गिरि ने शूलिनी विश्वविद्यालय के खाद्य प्रौद्योगिकी विभाग में स्थित योगानंद फूड इनोवेशन लैब की आधारशिला भी रखी। श्री परमहंस योगानंद के सम्मान में यह प्रतीकात्मक लैब , पाक कला की सरलता और नवीनता का केंद्र होने का वादा करता है।