Sat. Mar 2nd, 2024

शिमला 22 अक्टूबर, 2021
श्री नन्द लाल शर्मा, अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक एसजेवीएन ने उत्तराखंड के माननीय मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी से देहरादून में भेंट
की। भेंट के दौरान श्री शर्मा ने उत्‍तराखंड में जल विद्युत परियोजनाओं के क्षेत्र में निवेश करने की रुचि जाहिर की। उन्होंने माननीय
मुख्‍यमंत्री को बताया कि‍ एसजेवीएन ऊर्जा के क्षेत्र में तेजी से उभरता हुआ उपक्रम है। इसके अतिरिक्‍त एसजेवीएन पवन उर्जा, ताप उर्जा एवं
सौर उर्जा के क्षेत्र में भी कार्यरत है। वर्तमान में देश ही नहीं अपितु नेपाल और भूटान में भी जल विद्युत परियोजनाओं कार्य कर रहा है।
उन्होंने माननीय मुख्‍यमंत्री को अवगत करवाया कि एसजेवीएन उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में 60 मेगावाट की नैटवार मोरी जल
विद्युत परियोजना का निर्माण कर रहा है। परियोजना अपने निर्माण के अंतिम चरण में है और इसे जून 2022 तक पूरा किए जाने की
सम्भावना है। उन्‍होंने बताया कि एसजेवीएन के पास हिमालय की विषम पारिस्थितिकी में परियोजनाओं के निर्माण एवं उनके परिचालन का
अनुभव है। उन्होंने माननीय मुख्‍यमंत्री से टौंस एवं यमुना वैली में अन्य परियोजनाए एसजेवीएन को आबंटित करने का अनुरोध किया।
माननीय मुख्‍यमंत्री ने परियोजना कार्य पर हुई प्रगति पर संतोष व्‍यक्‍त किया एवं एसजेवीएन को राज्‍य सरकार के पूर्ण सहयोग का
आश्‍वासन दिया।
श्री नन्द लाल शर्मा ने बताया कि एसजेवीएन का वर्ष 2020-21 टैक्स से पूर्व कुल लाभ 2168.67 करोड़ रुपए है जोकि अभी तक का
सर्वाधिक है। उन्होंने बताया कि वर्तमान में एसजेवीएन के पास 8032 करोड़ रुपए का रिजर्व है। उन्होंने कहा की एसजेवीएन की वर्तमान में
विद्युत उत्पादन क्षमता 2016.51 मेगावाट है इसके अतिरिक्त एसजेवीएन ट्रांसमिशन लाइन के निर्माण के क्षेत्र में भी कार्यरत है।
उन्होंने बताया की एसजेवीएन के पोर्टफोलियो में वर्तमान में 11000 मेगावाट से अधिक की विद्युत परियोजनाएं है और हाल ही में
एसजेवीएन को ईरेडा के माध्यम से 1000 मेगावाट की ग्रिड कनेक्टेड सोलर पीवी सौर परियोजना रिक्वेस्ट आफ प्रपोजल के माध्यम से प्राप्त हुर्ह
है।
श्री नन्द लाल शर्मा ने बताया की निगम इसके अतिरिक्त उत्तर प्रदेश, बिहार और गुजरात में भी 345 मेगावाट के सोलर पावर प्रोजेक्ट
के निर्माण में कार्यरत है। कंपनी लघु-मध्यम-दीर्घकालिक उद्देश्यों को पूरा करने के लिए एसजेवीएन ने 2023 तक 5000 मेगावाट, 2030 तक
12000 मेगावाट तथा 2040 तक 25000 मेगावाट प्राप्त करने का एक साझा विजन रखा है।
श्री नन्द लाल शर्मा ने उत्तराखंड में चल रही परियोजनाओं एवं अन्य नवीन परियोजनाओं के निर्माण को लेकर मुख्य सचिव श्री एस.
एस. सन्धु एवं सचिव (उर्जा) श्रीमती सौजन्या से भी भेंट की और उनसे एसजेवीएन को उत्तराखंड में निर्माणाधीन परियोजनाओं के शीघ्र निर्माण के
लिए राज्य सरकार के अपेक्षित सहयोग एवं अन्य परियाजनाएं आबंटित करने का अनुरोध किया। इस अवसर पर एसजेवीएन के कार्यकारी
निदेशक श्री वी. शंकरनारायण, मुख्य महाप्रबन्धक एवं परियोजना प्रमुख नैटवार मोरी जल विद्युत परियोजना श्री एस. के. सिंह तथा श्री आशीष
पंत, वरिष्ठ अपर महाप्रबन्धक भी उपस्थित थ