Thu. May 30th, 2024

सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण शिमला रमणीक शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि

शिमला, 07 अक्तूबर
सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण शिमला रमणीक शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण शिमला ने आज़ादी के अमृत महोत्सव कार्यक्रम के तहत आम नागरिकों को विधिक सेवा सहायता प्रदान करने के उद्देश्य से जिले के विभिन्न जगहों पर शिविरों का आयोजन किया गया।
रमणीक शर्मा ने बताया कि इसके अंतर्गत ग्राम पंचायत कलहोग, रूपाड़ी, न्य फलावर डेल, छोटा शिमला, शोघी, सरस्वती नगर, शगीन, पुजारली, समर कोट, घाड़ी, बांदा, रेहाई, प्रेमनगर, घणाहट्टी, दरोटी, जुन्गा इत्यादि जगहों पर डिजिटल मोड से विशेष शिविरों का आयोजन किया गया।
शिविरों में शिमला के विभिन्न भागों में विधिक साक्षरता को बढ़ाने तथा लोगों को उनके कानूनी अधिकारों के बारे में जागरूक करने के लिए हज़ारों पैम्फलेट बंटवाए गए तथा बच्चों को मौलिक अधिकारों व कर्तव्यों के बारे में जागरूक किया गया।
उन्होंने बताया कि इसी कड़ी मेें उप-कारागार कैथू तथा आदर्श केन्द्रीय कारगार कण्डा में भी शिविर का आयोजन किया गया, जिनमें कैदियांे को फरलो, परोल, प्ली बारगेन तथा कैदियों के अधिकारांे व कर्तव्यों के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई।
इन शिविरों में मध्यस्थता के बारे में भी बताया गया कि इसके द्वारा विवाद का अविलम्ब व शीघ्र समाधान हो जाता है, जिससे समय व खर्च की किफायत होती है। विवाद भी हमेशा के लिए प्रभावी एवं सर्व मान्य तरीके से सुलझ जाता है।
शिविर के माध्यम से लोगों को लोक आदालत, मध्यस्थता, गिरफ्तार व्यक्ति के अधिकारांे, स्थायी लोक अदालतों, कचरा निपटान योजना, यौन पीड़ित मुआवजा योजना तथा नालसा मोबाईल ऐप के बारे में विसतृत जानकरी दी गई।
इस अवसर पर लोगों ने आई. ई. सी. मैटेरियल में विशेष रूचि दिखाई तथा इस बारे में जानकारी प्राप्त की।
.0.