Tue. Jul 23rd, 2024

शूलिनी विश्वविद्यालय में योग विभाग द्वारा “स्वस्थ जीवन के लिए आयुर्वेदिक सिद्धांत” पर एक वेबिनार का आयोजन किया गया और वेबिनार के मुख्य वक्ता थे डॉ. अजीत तिवारी, आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारी, सरकारी आयुर्वेद अस्पताल, अल्मोड़ा, उत्तराखंड।
योग विभाग 7वें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर “स्वास्थ्य और खुशी” विषय पर एक वेबिनार श्रृंखला का आयोजन कर रहा है।
शूलिनी विश्वविद्यालय के कुलाधिपति प्रो. पी.के. खोसला द्वारा स्वागत पत्र प्रस्तुत किया गया। उन्होंने आयुर्वेद के अपने बहुमूल्य अनुभव को साझा किए और सुझाव दिया कि युवाओं को भारतीय पारंपरिक प्रणालियों पर गर्व महसूस करना चाहिए क्योंकि पश्चिमी समाज भी विशेष रूप से महामारी के दौर में इन चीजों को अपना रहे हैं।
डॉ. अजीत तिवारी ने “स्वस्थ जीवन के लिए आयुर्वेदिक सिद्धांत” पर अपना व्याख्यान दिया। उन्होंने कहा कि आयुर्वेद को भारत का पांचवां वेद कहा जाता है। उन्होंने शरीर के पंचमहाभूतों की व्याख्या की, शरीर में वात पित्त और कफ दोषों के स्थान और उनके व्यवहार पर चर्चा की। उन्होंने नस्य क्रिया, आंखों में घी डालने, मुंह में सरसों का तेल डालना, पुदीना और अजवाईन से भाप लेना , हल्दी वाला दूध का सेवन और खट्टे फलों से गरारे करने से कोविड 19 और काले फंगस के संक्रमण से बचने के लिए कई आयुर्वेदिक उपाय बताए।

श्रृंखला के एक अन्य व्याख्यान में प्रो हेमांशु शर्मा ने “प्राकृतिक चिकित्सा के माध्यम से फेफड़ों के कार्य में सुधार” पर अपना व्याख्यान दिया। उन्होंने फेफड़े के कार्य में सुधार के लिए प्राकृतिक चिकित्सा उपचार पर संबोधित किया जो म्यूकोसल प्रतिरक्षा और जन्मजात प्रतिरक्षा में सुधार, तनाव को कम करने और नींद में सुधार करने में मदद करता है। उन्होंने बेहतर जीवनशैली के लिए योगिक आहार पर भी जोर दिया।

प्रो. सुरेश लाल बरनवाल ने भी एक सत्र लिया और कहा कि योग परिस्थितियों से निपटने और सभी कष्टों से छुटकारा पाने की क्षमता देता है। योग आपके चारों ओर सकारात्मकता फैलाता है जो निराशा को दूर करता है और यह शुद्धि, कायाकल्प और परिवर्तन में मदद करता है। उन्होंने दैनिक जीवन में, प्राणायाम, मौन, आराधना, उपासना और साधना के महत्व का भी वर्णन किया।

धन्यवाद ज्ञापन डॉ. सुबोध सौरभ सिंह, एसोसिएट प्रो. और प्रमुख, योग विभाग शूलिनी विश्वविद्यालय द्वारा दिया गया । वेबिनार का समन्वय डॉ. माला त्रिपाठी, सहायक प्रो., योग विभाग, शूलिनी विश्वविद्यालय द्वारा किया गया । यह आयोजन ऑनलाइन आयोजित किया गया।