Thu. May 30th, 2024

क्षेत्रिय बागवानी अनुसंधान एवं प्रक्षिशण केन्द्र व कृृषि विज्ञान केन्द्र किन्नौर स्थित रिंकागपिओ ने आज डा0 वाई एस परमार औधयानिकी एवं वानीकीय विश्व विघालय द्वारा 36वां स्थापना दिवस आनलाईन वरचुवल रूप से मनाया गया। इस अवसर पर क्षेत्रिय बागवानी अनुसंधान एवं प्रक्षिशण केन्द्र किन्नौर द्वारा जिले के प्रगतिशील किसान गेवा शंकर को बागवानी क्षेत्र में उत्कृृट कार्यो के लिए सह निदेशक एवं कार्यक्रम संमन्यवक डा0 अशोक ठाकुर ने सम्मानित किया। गेवा शंकर ने उन्नत किस्म किंग राॅट व डार्क बैरन गाला को एम 9 चयनित मुल बृृन्त पर अति उच्च घन्तव (510 एम 2 क्षेत्र में 500 पौधे) लगा कर सेब की पैदावार को बढाने की दिशा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई व आस -पास के किसानों के लिए भी आर्दश बने।
डा0 अशोक ठाकुर ने बताया की जहां जिले में किसान पुराने तरीकों से पौध रोपन कर पुरानी किस्मों को उगा रहे है वहीं उरनी गांव के प्रगतिशील बागवान गेवा शंकर ने आगे आए नई सोच के साथ पुरानी तकनिकियों को जान कर तथा उन से होने वाले कम मुनाफे को देखकर सेब की उन्नत किस्म उगाने की सोची। इस सोच के साथ 2 साल के पौधे जंजी व गिबा नर्सरी, इटली से आयात किए गए व अपने गावं उरनी में कृृषि विज्ञान केन्द्र शारबो के वैज्ञानिकों से तकनिकी सहायता लेकर पौध रोपन किया और अब बहुत अच्छी फसल प्राप्त कर रहे है जिसमें से इनकी आय में भी बढोतरी हुई।
उन्होने कहा कि कृृषि विज्ञान केन्द्र किन्नौर सेब कि उच्च व उन्नत तकनीक पर पिछले कई वर्षो से कार्य कर रहा है और बागवानों को निरन्तर प्रक्षिणन प्रदान कर उन्नत किस्म के सेब के पौधे उगाने के लिए प्ररित कर रहा है। केन्द्र किसानो को उन्नत किस्म के सेब पौधे उपल्बध करवा रहा है। उन्होने बताया कि आज जिले में कई किसानों ने सेब की नई किस्मों व तकनीकों को अपनाया है। जिससे किसान बागवान अपने छोटे-छोटे खेतों में नविनतम किस्मों को उगा कर अधिक फसल पैदाकर अपनी आय में बढोतरी कर रहे है।
इस अवसर पर क्षेत्रिय बागवानी अनुसंधान एवं प्रक्षिण केन्द्र के डा0 डीपी भंडारी, डा0 अरूण कुमार, डा0 सुशील धीमान, डा0 दिनेश कुमार, डा0 डीआर नेगी सहित प्रगतिशील किसान बागवान उपस्थित थे।