Mon. Feb 26th, 2024

शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज ने कहा कि प्रदेश में प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के तहत 3000 से अधिक लाभार्थियों को 3 करोड़ रुपये का गारंटी मुक्त ऋण दिया गया है। उन्होंने कहा कि अब पार्षदों की मदद से स्ट्रीट वेंडर्स तक इस योजना को पहुंचाया जाएगा।

     शहरी विकास मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा स्ट्रीट वेंडर्स के कल्याण के लिए योजना शुरू की गई थी। इस योजना के तहत हिमाचल प्रदेश में 3000 से अधिक स्ट्रीट वेंडर्स को ऋण मिल चुका है। उन्होंने कहा कि यह योजना स्ट्रीट वेंडर्स के लिए बहुत सहायक सिद्ध हुई है।

     उन्होंने कहा की कोरोना महामारी से बचने के लिए देश भर में लाॅकडाउन जैसा कठोर कदम उठाना पड़ा, जिसके फलस्वरूप भारत में कोरोना का प्रभाव कई विकसित राष्ट्रों से कम रहा, लेकिन लाॅकडाउन के कारण छोटे व्यापारियों खासकर स्ट्रीट वेंडर्स को कुछ नुकसान नहीं हुआ। व्यापार को सुचारू रूप से चलाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस योजना को आरम्भ किया है और प्रदेश में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की सरकार इस योजना के सफल क्रियान्वयन के लिए प्रयासरत है।

     सुरेश भारद्वाज ने कहा वर्तमान में प्रदेश में 5790 स्ट्रीट वेंडर्स हैं, जिन्हें पहचान पत्र जारी हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि सरकार का प्रयास रहेगा की सभी जरूरतमंद स्ट्रीट वेंडर्स को इस योजना का लाभ मिल सके। इसके लिए समय-समय पर बैंक और सम्बंधित अधिकारियों से बात की जा रही है। उन्होंने योजना के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए सभी शहरी निकायों के पार्षदों व अधिकारियों को विशेष प्रयास करने के निर्देश दिए हैं।

     उन्होंने कहा कि शीघ्र ही सभी पार्षद अपने-अपने वार्डों में चिन्हित स्ट्रीट वेंडर्स से संपर्क कर, इस योजना के बारे में जानकारी प्रदान करेंगे और यदि कोई इस योजना का लाभ प्राप्त करना चाहता है, तो उसकी हर सम्भव सहायता करेंगे। उन्होंने शहरी विकास विभाग व शहरी निकायों के अधिकारियों को निर्देश दिए कि बैंकों से समय-समय पर इस योजना के बारे में संवाद स्थापित करें, जिससे कोई भी प्रार्थना-पत्र अधिक समय तक लंबित न रहे।

     शहरी विकास मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के तहत 10 हजार रुपये तक का कोलेटरल फ्री लोन दिया जाता है, जिसका इस्तेमाल स्ट्रीट वेंडर्स अपनी पूंजी के तौर पर कर सकते हैं। इस योजना से भारत के 50 लाख वेंडर्स लाभान्वित होंगे, जो लाॅकडाउन के कारण बुरी तरह से प्रभावित हुए थे। इस योजना के तहत एक वर्ष के लिए 10,000 रुपये का लोन दिया जाता है। इस लोन के उपयोग से वेंडर्स को अपना व्यवसाय दोबारा आरम्भ करने में मदद मिलेगी। इस लोन पर आवेदक को किसी तरह की गारंटी नहीं देनी होगी, वहीं लोन का पैसा समय पर जमा करने पर 7 फीसदी तक की ब्याज उपदान मिलता है।

     उन्होंने बताया कि पीएम स्वनिधि योजना के तहत लोन लेने के इच्छुक स्ट्रीट वेंडर्स सीधे पीएम स्वनिधि योजना की वेबसाइट https://pmsvanidhi.mohua.gov.in पर आवेदन कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त स्ट्रीट वेंडर्स शहरी निकाय के कार्यालय में भी आवेदन कर सकते हैं।