Thu. May 30th, 2024

भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे सफल ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह, जिन्हें लोग प्यार से भज्जी बुलाते है , ने शूलिनी विश्वविद्यालय की योगानंद गुरु श्रृंखला के तहत एक बातचीत के दौरान सामान्य रूप से क्रिकेट और जीवन के खेल के बारे में दिलचस्प जानकारी साझा की।
हरभजन सिंह, जो वर्तमान में इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में चेन्नई सुपर किंग्स फ्रेंचाइजी के प्रमुख स्पिनर हैं, ने अपने क्रिकेट करियर से संबंधित कई किस्से साझा किए। उन्होंने कहा कि कैसे आत्म विश्वास व्यक्तिगत और पेशेवर जीवन में चमत्कार पैदा कर सकता है। उन्होंने असफलताओं और सफलता को संभालने की भी बात की और इन दोनों को अस्थायी करार दिया।

भारत के लिए 2007 और 2011 के विश्व कप के विजेता टीम के सदस्य, हरभजन सिंह ने दोनों श्रृंखलाओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने कहा कि दोनों जीत सामूहिक टीम के प्रयास के कारण संभव हुईं। उन्होंने कहा कि टीम के कप्तान और कोच भी टीम के प्रदर्शन के लिए महत्वपूर्ण हैं।

बातचीत का संचालन प्रो वाइस चांसलर प्रोफेसर अतुल खोसला और डीन स्टूडेंट्स वेलफेयर श्रीमती पूनम नंदा ने किया।

ऑस्ट्रेलिया में खेलने के दौरान अपने अनुभवों के बारे में पूछे जाने पर, हरभजन ने कहा कि देश में बहुत कम लोग इस बात पर विश्वास कर सकते हैं कि भारत ऑस्ट्रेलिया को इतने बड़े पैमाने पर हरा सकता है, लेकिन जीत ने दिखाया कि सामूहिक टीम कैसे काम करती है और सपनों को हासिल करने के लिए विश्वास किस्मत बदल सकती है। उन्होंने कहा कि सकारात्मक बने रहने के लिए यह जरूरी और महत्वपूर्ण है।
आईपीएल के बारे में बोलते हुए, उन्होंने कहा कि इसने युवा प्रतिभाओं को क्रिकेट की दुनिया में सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलने का मौका दिया है। उन्होंने बताया कि कैसे अंडर -19 खेल के युवा वर्ग, बड़े-बड़े खिलाड़ियों के साथ बेंच साझा करते हैं जो उन्हें अत्यधिक आत्मविश्वास प्रदान करता है और उच्च कोटि के टूर्नामेंट में दबाव को संभालने का तरीका सीखने का भी अवसर मिलता है।
उन्होंने छात्रों द्वारा पूछे गए कई सवालों के जवाब भी दिए और कहा कि स्थिति सामान्य होने पर वे परिसर का दौरा करने के लिए तत्पर रहेंगे।