Mon. Feb 26th, 2024

नाहन/सोलन : भारतीय जनता पार्टी के नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष एवं सेना से सेवानिवृत्त वायु सेना के पूर्व सैनिक सुरेश कश्यप ने अपने निवास स्थान पर भारत माता के चित्र को पुष्पांजलि देते हुए शौर्य दिवस मनाया और शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की।
उन्होंने कहा की 26 जुलाई 1999 के दिन भारतीय सेना के कारगिल युद्ध के दौरान चलाए गए ऑपरेशन विजय को सफलतापूर्वक अंजाम देकर भारत भूमि को घुसपैठियों के चुंगल से मुक्त कराया था जिसकी याद में भारतीय जनता पार्टी प्रत्येक वर्ष इस दिन को शौर्य दिवस के रूप में मनाती आ रही है।
उन्होंने कहा की इस युद्ध का कारण था कि बड़ी संख्या में पाकिस्तानी सैनिकों व पाक समर्थित आतंकवादियों का लाइन ऑफ कंट्रोल यानी भारत पाकिस्तान की वास्तविक नियंत्रण रेखा के भीतर प्रवेश कर कई महत्वपूर्ण पहाड़ी चोटियों पर कब्जा कर लेह लद्दाख को भारत से जोड़ने वाली सड़क का नियंत्रण हासिल कर सिचाचीन-ग्लेशियर पर भारत की स्तिथि को कमज़ोर कर हमारी राष्ट्रीय अस्मिता के लिए खतरा पैदा करना।
उन्होंने कहा यह युद्ध पूरे दो महीने से ज्यादा चला था । इस युद्ध में हमारे लगभग 527 से अधिक वीर योद्धा शहीद हुए तथा 1300 से अधिक घायल हो गए थे , जिनमें से अधिकांश की आयु 30 वर्ष से कम थी । हमारे प्रदेश से भी 52 वीर सपूतों ने इस युद्ध रूपी यज्ञ में अपने प्राणों की आहुति दी थी । कारगिल युद्ध में चार परमवीर चक्र मिले थे , उनमें से 2 परमवीर चक्र हिमाचल के रणबांकुरो को मिले हैं । एक परमवीर चक्र शहीद कैप्टन विक्रम बतरा व दूसरा राईफल मैन संजय कुमार को मिला है । इनके अतिरिक्त हिमाचल के वीरों को पांच वीर चक , नौ सेना मैडल , एक युद्ध सेना मैडल , दो उत्तम युद्ध सेना मैडल व दो जवानों को मेंशन इन डिस्पेचीज से सम्मानित किया गया । कैप्टन सौरभ कालिया को उनकी बहादुरी के लिए मरणोपरांत वीर चक्र से सम्मानित किया गया । हिमाचल के कांगड़ा जिला के पालमपुर से संबंध रखने वाले परमवीर चक्र विजेता कैप्टन विक्रम बत्रा 7 जुलाई , 1999 को कारगिल युद्ध में देश के लिए शहीद हो गए थे । विक्रम बत्रा की शहादत के बाद प्वाइंट 4875 चोटी को बत्रा टॉप का नाम दिया गया है ।
उन्होंने कहा कि आज के दिन भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने शहीदों के चित्रों तथा भारत माता के चित्र पर पुष्पांजलि के कार्यक्रम किए और वीर नारियों को सम्मानित भी किया उन्होंने कहा कि आज भाजपा ने सभी शहीदों के परिवारों को सम्मानित करते हुए शहीदों के स्मारकों पर स्वच्छता अभियान भी चलाया